-आरयू में आरटीआई में कॉपी रीचेकिंग में सामने आ रहा सच

-एमएससी फाइनल में छात्रा की कॉपी में 36 की जगह टोटल में 26 मा‌र्क्स

BAREILLY : आरटीआई के तहत कापियों का अवलोकन करने पहुंच रहे फेल स्टूडेंट्स का आरयू पर लगाया गया आरोप काफी हद तक सही निकल रहा है. आरयू अपनी लापरवाही छुपाने के लिए स्टूडेंट्स को ए कॉपी के बाद बी और सी कापियों का अवलोकन ही नहीं करा रहे हैं. जिन कॉपियों का स्टूडेंट्स अवलोकन कर रहे हैं उनमें दिए गए मा‌र्क्स का टोटल तक गलत निकल रहा है. आंसर चेक करने के दौरान कॉपी में अंदर मा‌र्क्स अधिक दिए हैं लेकिन टोटल में कम लिखे हुए निकल रहे हैं. कम मा‌र्क्स होने के चलते कई स्टूडेंट्स को फेल भी कर दिया गया. इससे परेशान स्टूडेंट्स अब आरयू के चक्कर लगाने को मजबूर हैं.

केस-1

मा‌र्क्सशीट में 36 की जगह 26

रिठौरा निवासी समशुनलका ने एमएससी फाइनल ईयर का एग्जाम दिया था. जिसमें उसे स्पेक्ट्रोस्कोपी पेपर में 26 मा‌र्क्स दिए गए थे. आर्गेनिक केमिस्ट्री में 04 मा‌र्क्स दिए थे और वह फेल हो गई. समशुनलका ने चारों पेपर में कापियों के अवलोकन के लिए आरटीआई अप्लाई की. कॉपी का अवलोकन कराने के लिए बुलाया गया. कॉपी का अवलोकन के दौरान स्पेक्ट्रोस्कोपी कॉपी में टोटल चेक किया तो उसमें 36 टोटल बन रहा था. जबकि उसके कॉपी के ऊपर सिर्फ 26 मा‌र्क्स दिए हुए थे. इस पर छात्रा ने आरयू कर्मचारी से शिकायत की जिस पर उन्होंने छात्रा से अप्लीकेशन लेने के बाद नई मा‌र्क्सशीट 15 दिन बाद देने का आश्वासन देकर भेज दिया.

केस-2

तीन कॉपियां, लेकिन एक ही दिखाई

तिलहर शाहजहांपुर निवासी छात्रा अश्वन्तिका ने बीसीबी से बीएससी जूलॉजी थर्ड ईयर का एग्जाम दिया था. छात्रा के फ‌र्स्ट, सेकंड और थर्ड पेपर में कम मा‌र्क्स आए तो उसने आरटीआई के तहत कॉपी के अवलोकन के लिए अप्लाई किया. मंडे को उसे कॉपियों के अवलोकन की डेट दी गई तो वह शाहजहांपुर से आरयू पहुंची. छात्रा ने बताया कि उसने फ‌र्स्ट पेपर में तीन कॉपियां ए, बी और सी लिखी थी, लेकिन आरयू के कर्मचारी ने उसे सिर्फ ए कॉपी ही दिखाई. जब उसने बी और सी कॉपी भी देखने के लिए मांगी तो मना कर दिया. छात्रा ने सेकंड और थर्ड पेपर की कॉपियां देखीं तो उसमें भी मा‌र्क्स कम थे. जबकि बी और सी कॉपी दिखाई ही नहीं. परेशान छात्रा ने जब शिकायत की तो कर्मचारी ने उससे प्रार्थना पत्र लेकर चैलेंज मूल्यांकन के तहत कॉपी चेक कराने की सलाह देकर भेज दिया.

केस-3

कॉपियां चेक, आंसर पर मा‌र्क्स नहीं

किला क्षेत्र की अलीजा भी आरटीआई अप्लाई करने के बाद कॉपी देखने के लिए आरयू पहुंची थी. अलीजा ने केसीएमटी से बीएससी बायोलॉजी थर्ड ईयर का एग्जाम दिया था. छात्रा ने बताया कि उसकी कॉपी में लॉन्ग आंसर चेक तो कर दिए गए लेकिन उसके मा‌र्क्स ही नहीं दिए गए थे. जिस कारण उसके मा‌र्क्स कम आए हैं. इसके लिए जब छात्रा ने अप्लीकेशन लिखकर दी तो उसे चैलेंज मूल्यांकन की सलाह दे दी. इसके बाद भी छात्रा ने विरोध जताया लेकिन उसकी कोई सुनवाई नहीं हुई.

===========

किसी भी स्टूडेंट्स को कॉपी चेकिंग में कोई शिकायत है तो वह अप्लीकेशन वीसी के नाम लिखकर दे सकता है. इसके साथ वह मुझसे भी मिलकर शिकायत कर सकता है. समस्या का समाधान किया जाएगा.

-प्रो. एनएन पाण्डेय, परीक्षा नियंत्रक