समाजवादी आवासीय योजना के तहत फ्लैट दिलाने में धोखाधड़ी का आरोप

कोर्ट के आदेश पर थाना दौराला में दर्ज हुआ मुकदमा

Meerut. बिल्डर समेत 7 लोगों के खिलाफ कोर्ट के आदेश पर थाना दौराला में मुकदमा दर्ज किया गया है. समाजवादी आवासीय योजना में फ्लैट दिलाने के नाम पर धोखाधड़ी के आरोप में मुकदमा दर्ज हुआ है. पीडि़त ने 9.62 लाख रुपये हड़पने का आरोप बिल्डरों पर लगाया है. मंगलवार को पीडि़त परिवार ने गिरफ्तारी की मांग को लेकर एसएसपी ऑफिस पर प्रदर्शन भी किया. थाना दौराला के इंस्पेक्टर मनोज कुमार मिश्रा ने बताया कि कोर्ट के आदेश पर 7 लोगों के खिलाफ धोखाधड़ी के आरोप में मुकदमा दर्ज हुआ है. अब तक कोर्ट के आदेश पर ही 8 ऐसी एफआईआर हुई हैं, जिनमें पीडि़तों ने इन आरोपियों के खिलाफ फ्लैट दिलाने के नाम पर धोखाधड़ी की शिकायत की हैं.

यह है पूरा मामला

लिसाड़ीगेट थानाक्षेत्र के मोहल्ला इस्लामाबाद निवासी हाजी मोहम्मद इरफान अंसारी ने बताया कि समाजवादी आवासीय योजना के तहत सस्ते फ्लैट के लिए उसने इंफ्रा प्राइवेट लिमिटेड के डायरेक्टर रवि रस्तोगी निवासी गोल मार्केट मवाना, डॉ. ओमप्रकाश अग्रवाल व डॉ. मीना अग्रवाल निवासी जवाहर क्वार्टर बेगम ब्रिज, मनमोहन सपरा निवासी पंजाब ज्वैलर्स सदर बाजार आबूलेन, अनुराग गर्ग निवासी नेहरूनगर गढ़ रोड, आलोक रस्तोगी निवासी सेंट्रल मार्केट मेरठ, अखिलेश चौहान निवासी गाजियाबाद से संपर्क किया. इन लोगों ने दौराला थानाक्षेत्र के समौली सलेमपुर में ऑफिस बनाया हुआ था. यहां पर इरफान को बुलाया और उसे बताया कि वह फ्लैट बुक करा दे. तीन साल बाद उसे फ्लैट मिल जाएगा. किश्तों में उसने नौ लाख 62 हजार रुपये भी जमा करा दिए. जनवरी में वह फ्लैट पर कब्जा लेने के लिए पहुंचा तो उनका कार्यालय ही गायब मिला. फोन पर संपर्क किया तो आरोपितों ने धमकी दी कि उसे न तो फ्लैट मिलेगा और न पैसा. जिसके बाद वह पुलिस के पास पहुंचा. पुलिस से मदद नहीं मिली तो कोर्ट पहुंचा. आरोपी बिल्डर एक एमएलसी के पति भी हैं.

एसएसपी कार्यालय पर प्रदर्शन

कोर्ट के आदेश के बाद थाना पुलिस द्वारा बीती 4 जून को बिल्डर समेत 7 के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है. वहीं मंगलवार को एसएसपी कार्यालय पहुंचे पीडि़त हाजी इरफान अंसारी ने आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर हंगामा किया.