मृतक का बीमाकर फर्जी दस्तावेज लगा नामिनी पत्‍‌नी से कराया पैसों के लिए दावा

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक से शिकायत के बाद मामला दर्ज, जांच में जुटी पुलिस

PRAYAGRAJ: बीमा अभिकर्ता की मिली भगत से किए गए फ्राड का मामला सामने आया है. आईसीआईसीई पुंडेशियल लाइफ इंश्योरेंस कंपनी लीमिटेड द्वारा एसएसपी से की गई शिकायत के बाद सिविल लाइंस पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कर जांच शुरू कर दी है. आरोप है कि एजेंट ने फर्जी दस्तावेज तैयार कर मृतक का बीमा कराया इसके बाद नामिनी को पैसा दिलाने की कोशिश की.

कंपनी की जांच में हुआ खुलासा

पुलिस के मुताबिक हंडिया तहसील के धमहा गांव निवासी देवेन्द्र मिश्र का बेटा कुलदीप मिश्र आईसीआईसीई पुंडेशियल लाइफ इंश्योरेंस कंपनी लीमिटेड का अभिकर्ता है. उसने 26 अगस्त 2013 को राज नारायण पुत्र यज्ञनारायण निवासी शाहीपुर हंडिया के नाम से बीमा कराया. उसके द्वारा भरे गए फार्म के आधार पर कंपनी ने करीब चार लाख बीस हजार रुपए का बीमा कर दिया. इसका वार्षिक प्रीमियम उसके द्वारा छह हजार 545 रुपए जमा किया जाना था. बीमा में राज नारायण की पत्‍‌नी निर्जला यादव को नामिनी बनाया गया. निर्जला यादव ने करंट लगने से पती की मृत्यु का दावा करते हुए बीमित पैसों की मांग की. पति के मौत की डेट उसने 21 सितंबर 2013 बताया गया. उसने पति के मृत्यु की पुष्टि के लिए गर्विता हॉस्पिटल हंडिया द्वारा निर्गत प्रमाण, पंचायतनामा, मृत्यु प्रमाण आदि लगाया. दावा प्रस्तुत करने के बाद कंपनी ने जांच शुरू की तो चौंकाने वाला मामला सामने आया. कंपनी के अधिकारियों को पता चला कि उसकी मौत 21 अगस्त को ही हो गई थी. उसके द्वारा लगाए गए कागजात फर्जी हैं. इस पर अधिकारियों ने मामले की शिकायत एसएसपी से की. एसएसपी के आदेश पर रिपोर्ट दर्ज कर जांच की जा रही है. इसी तरह नम्रता राय पत्‍‌नी कर्नल एसके राय न्याय मार्ग न्यू कैंट की तहरीर भी पुलिस ने फर्जीवाड़े की रिपोर्ट दर्ज की है.