- घर के पास अपने निजी नलकूप पर सोया था वृद्ध

- पट्टीदारों से चल रही थी पुरानी रंजिश, परिवार ने लगाया आरोप

- ग्राम प्रधान समेत चार हिरासत में, पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट का इंतजार कर रही पुलिस

मिर्जामुराद थानाक्षेत्र के आषाढ़ गांव में बुधवार की रात नलकूप पर सो रहे वृद्ध रामचंद्र सिंह उर्फ खूंटे (60 वर्ष) की अज्ञात हमलावरों ने हत्या कर दी. वृद्ध के सिर पर धारदार हथियार से कई प्रहार किए गए थे. सुबह निकले ग्रामीणों ने चारपाई पर पड़े खून से लथपथ शव देखा तो पुलिस को सूचना दी. मौके पर मिर्जामुराद पुलिस, फोरेंसिक टीम और डॉग स्क्वाड भी पहुंचा. मृतक के भतीजे की तहरीर पर पुलिस ने ग्राम प्रधान समेत चार लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर उन्हें हिरासत में ले लिया है.

बुधवार को हुआ था विवाद

आषाढ़ गांव निवासी रामचंद्र सिंह उर्फ खूंटे खेतीबारी करते थे. उन्होंने शादी नहीं की थी. घर से 500 मीटर की दूरी पर उन्होंने अपना नलकूप लगवाया था, हर रात खाना खाने के बाद वहीं जाकर सोते थे. बुधवार की रात उनकी हत्या कर दी गई. मृतक के भतीजे अरुण कुमार सिंह उर्फ रिशु ने ग्राम प्रधान हिम्मत बहादुर सिंह पर चाचा की हत्या का आरोप लगाया. उसने बताया कि ग्राम प्रधान उसके परिवार का पट्टीदार है. जमीन को लेकर दोनों परिवारों में पुरानी रंजिश चल रही है. बुधवार को भी जमीन पर लगे घूर को लेकर विवाद हुआ था.

लूट में था आरोपी

अरुण के मुताबिक 2012 में जौनपुर में एक लूट के मामले में ग्राम प्रधान आरोपी था. उस मामले में अरुण को पुलिस ने गवाह बनाया था. कुछ समय पहले खूंटे की खड़ी फसल भी आरोपी पक्ष ने फूंक दी थी. इसे लेकर दोनों परिवारों में कई बार विवाद हो चुका था. अरुण की तहरीर पर पुलिस ने ग्राम प्रधान हिम्मत बहादुर सिंह, उनके पुत्र धीरज सिंह, भतीजे सोनू सिंह व भाई मानबहादुर सिंह के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कर लिया.

पूरे मामले पर थाना प्रभारी अवनीश राय ने बताया कि परिवार के आरोप के आधार पर ग्राम प्रधान और उनके परिजनों को हिरासत में लिया गया है. पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट मिलने के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी.