-लंका के डाफी क्षेत्र में हुई घटना, तीन के खिलाफ मुकदमा दर्ज

-पीडि़ता ने पहले भी आरोपियों पर दुष्कर्म का दर्ज कराया था केस

लंका थाना क्षेत्र के डाफी में शुक्रवार की रात नर्स को कार में अगवा कर तीन लोगों ने गैंगरेप किया. पीडि़ता को नशीला पदार्थ सुंघाकर अज्ञात स्थान पर सुबह तक बंधक बनाए रखा गया, आरोप है कि इस दौरान उसके साथ अप्राकृतिक दुष्कर्म की भी कोशिश की गई. महिला ने शनिवार को लंका थाने में घटना की तहरीर दी. मुकदमा दर्ज कर पुलिस आरोपियों की तलाश कर रही है.

धमकी से छोड़ दी थी नौकरी

पीडि़ता ने बताया कि पहले वह रोहनिया क्षेत्र के एक निजी अस्पताल में काम करती थी. तीन महीने पहले वहां के डॉ. एके सिंह, सत्यजीत कुमार, अभिषेक दुबे, पप्पू राय और दिनेश यादव ने पीडि़ता को धमकाकर दुष्कर्म किया था. जिसके बाद उसने रोहनिया थाने में मुकदमा दर्ज कराया था. इसी के बाद से आरोपी तरह-तरह से उसे धमका रहे थे. पीडि़ता ने डर के मारे अस्पताल की नौकरी भी छोड़ दी थी.

घर के पास से किया अगवा

पीडि़ता ने बताया कि उसने डाफी क्षेत्र के अस्पताल में नौकरी शुरू की. शुक्रवार की देर रात वह अस्पताल से घर लौट रही थी. इसी समय सफेद रंग की कार उसके पास आकर रुकी. उसमें से सत्यजीत कुमार दो अज्ञात लोगों के साथ निकला और पीडि़ता को मारपीट कर कार में बैठा लिया. उसने शोर मचाने की कोशिश की तो आरोपियों ने उसे नशीला पदार्थ सुंघा दिया जिससे वह अचेत हो गई. पीडि़ता के मुताबिक उसे अज्ञात स्थान पर एक कमरे में बंधक बनाकर रखा गया और तीनों लोगों ने उसके साथ दुष्कर्म किया. सुबह होश में आने पर उसके साथ अप्राकृतिक दुष्कर्म की भी कोशिश की गई.

पुलिस कर रही तलाश

सुबह आरोपियों ने पीडि़ता को उसके घर के पास लाकर छोड़ दिया और शिकायत करने पर अबकी हत्या करने की धमकी दी. हिम्मत जुटाकर पीडि़ता लंका थाने पहुंची और न्याय की गुहार लगाई. इंस्पेक्टर लंका संजीव मिश्र ने बताया कि पीडि़ता की शिकायत पर मुकदमा दर्ज कर आरोपियों की तलाश की जा रही है.