- दो हफ्ते में तीन बार दी गई खाकी वर्दी के इकबाल को चुनौती

- लोहता, रोहनिया और मिर्जामुराद में हुए पुलिस पर हमले

- पुलिस पर हमला करने वालों के खिलाफ होगी कड़ी कार्रवाई

आम आदमी के लिए दोस्त और अपराधियों के लिए दहशत साबित होने के लिए पुलिस जी-जान से कोशिश कर रही है. मगर कुछ वाकये ऐसे भी हैं जब पुलिस के इकबाल पर ही सवाल उठने लगते हैं. पिछले दो हफ्तों में पुलिस पर कुल तीन बार हमले हुए. इसमें एक सिपाही से मारपीट हुई तो दूसरे मामले में चौकी इंचार्ज का सिर फोड़ दिया गया. एक घटना ऐसी भी हुई जिसमें पुलिस टीम को बाकायदा कई घंटों तक ग्रामीणों ने बंधक बनाए रखा.

कैसे पाटेंगे बीच की खाई

डीजीपी ओपी सिंह ने पुलिस की छवि सुधार के लिए कई प्रयोग किए. उन्होंने कई बार अपने ट्वीट्स में भी पुलिसकर्मियों के आम लोगों से अच्छे व्यवहार का जिक्र किया है. हालांकि पुलिस और जनता के बीच की खाई पटती नहीं दिखाई दे रही. ग्रामीणों द्वारा पुलिस पर हमले से साफ है कि उन्हें कहीं न कहीं पुलिस की कार्रवाई पर भरोसा नहीं है. ऐसे में अफसरों के सामने यह चुनौती है कि जनता का पुलिस पर भरोसा कैसे मजबूत हो.

शिकायत के लिए खुले हैं दरवाजे

एसएसपी आनंद कुलकर्णी कहते हैं कि पुलिस के आम जनता से व्यवहार पर बहुत ध्यान दिया जा रहा है मगर अपराधियों की मदद के लिए पुलिस पर हमला करने को किसी भी तरह से सही नहीं ठहराया जा सकता. जनता की शिकायत के लिए सभी दरवाजे खुले हैं. थानों पर सुनवाई नहीं हो रही तो उनके सामने सीओ, एसपी और एसएसपी और उच्चाधिकारियों से शिकायत के विकल्प हैं. मगर कानून को हाथ में लेना किसी भी तरह सही नहीं ठहराया जा सकता.

दोषियों पर लगेगा रासुका

एसएसपी कहते हैं कि अपराधी की मदद करने वाला भी गुनाहगार है और दंड का भागी बनेगा. उन्होंने बताया कि पुलिस पर हमले के सभी मामलों में मुख्य आरोपियों को चिह्नित किया गया है. सभी के खिलाफ रासुका की कार्रवाई की जाएगी. उन्होंने जनता से अपील की कि कानून को हाथ में लेने के बजाय शांतिप्रिय ढंग से अपनी शिकायत करें.

बयान

पुलिस पार्टियों पर हमले के सभी मामलों में रासुका लगाने की तैयारी की जा रही है. दोषियों को किसी भी हाल में बख्शा नहीं जाएगा.

आनंद कुलकर्णी, एसएसपी

जब हुए पुलिस पर हमले

25 जुलाई : लोहता के कनईसराय गांव में अपहरण के आरोपी को पकड़ने गए दरोगा और चार सिपाहियों को ग्रामीणों ने पीटा और घंटों बनाया बंधक

31 जुलाई : मिर्जामुराद में कांवरिया लेन में बोलेरो ले जाने से रोकने पर भिखारीपुर निवासी विपिन वर्मा नामक युवक ने सिपाही को जमकर पीटा.

7 अगस्त : गंगापुर वार्ड नंबर-3 में हेरोइन तस्कर की तलाश में दबिश देने गई पुलिस टीम पर हमला. गंगापुर चौकी प्रभारी का सिर फूटा.