चौबेपुर के मिल्कोपुर में 28 अगस्त की रात पिता-पुत्र की हत्या के लिए आरोपियों ने अमोनियम नाइट्रेट का इस्तेमाल किया था. आगरा फोरेंसिक साइंस लैब की रिपोर्ट के बाद इस तथ्य पर मुहर लग गई है. चौबेपुर पुलिस की टीम अब इस बात की छानबीन में लगी है कि आरोपियों के पास यह विस्फोटक पहुंचा कहां से.

हत्या के मामले में क्राइम ब्रांच ने मुन्नीलाल यादव, उसके बेटे सोनू यादव और चौक के सराफा व्यवसायी किरणचंद्र वर्मा को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था. मंगलवार को चौबेपुर पुलिस ने सीजेएम जेपी यादव की अदालत में प्रार्थना पत्र देकर आरोपियों को रिमांड पर देने की अपील की. अदालत ने सुनवाई के लिए बुधवार को तीनों आरोपियों को तलब किया है. पुलिस की तरफ से दिए गए प्रार्थना पत्र में कहा गया है कि आरोपियों ने मिर्जापुर में कुछ और विस्फोटक छिपाकर रखा है. इसकी बरामदगी के साथ ही डेटोनेटर दिलाने वालों की तलाश भी की जाएगी.