- कुख्यात हरीश यादव को दो साथियों संग क्राइम ब्रांच ने दबोचा

- औरंगाबाद में व्यवसायी की हत्या की ली थी सुपारी, नक्खीघाट से गिरफ्तार

वाराणसी क्राइम ब्रांच ने व्यापारी की हत्या करने शहर में आए 25 हजार के इनामी और कुख्यात बदमाश हरीश यादव को गिरफ्तार कर लिया. शातिर के साथ उसके दो साथी अनुराग चौरसिया और विक्की भी दबोच लिए गए. तीनों के कब्जे से 12 हजार रुपये, दो तमंचा-कारतूस और तीन मोबाइल भी बरामद किए गए हैं.

एसटीएफ ने हाल ही में 50 हजार के इनामी चंदन सोनकर को गिरफ्तार कर जेल भेजा था. चंदन औरंगाबाद के एक व्यापारी की हत्या के लिए वाराणसी आया था. गिरफ्तारी के बाद उसने अपने गुर्गो को काम पूरा करने की जिम्मेदारी दी. सोमवार की भोर में सूचना पर क्राइम ब्रांच और सारनाथ पुलिस ने नक्खीघाट पर घेराबंदी की. जैतपुरा की तरफ से आ रहे तीन बदमाशों को रोका गया तो वह फायरिंग करते हुए भागने लगे. टीम ने तीनों को गिरफ्तार कर लिया. इनकी पहचान जौनपुर निवासी हरीश यादव उर्फ पांड़े, सेनपुरा निवासी अनुराग चौरसिया और बड़ी पियरी निवासी विक्की के रूप में हुई.

कई वारदातों में था शामिल

क्राइम ब्रांच प्रभारी विक्रम सिंह ने बताया कि तीनों को चंदौली से पिस्टल खरीदने के बाद वारदात को अंजाम देना था. हरीश ने 2016 में राजू सेठ और उदय मिश्रा का सारनाथ से अपहरण कर जौनपुर के चंदवक में ले जाकर हत्या कर दी थी. इसके बाद से ही वह फरार चल रहा था. 2017 में इसी गिरोह ने पिपलानी कटरा क्षेत्र में साइकिल व्यवसायी प्रेमप्रकाश गुप्ता को गोली मारकर लूट की थी. गिरफ्तारी करने वाली टीम में क्राइम ब्रांच प्रभारी के अलावा एसआई राकेश सिंह, कांस्टेबल सुमंत सिंह, रामभवन यादव, पुंदेव सिंह, रामबाबू, रमेश तिवारी, चंद्रसेन, कुलदीप सिंह के साथ इंस्पेक्टर सारनाथ प्रवीण यादव और उनकी टीम रही.