आतंकी हमला झेल चुके संकटमोचन मंदिर में फिर धमाका करने की धमकी ने बनारस से लेकर दिल्ली तक सबकी धुकधुकी बढ़ा दी है. बावजूद इसके जो शहर सुरक्षा करते हैं अपनी जिम्मेदारी से बेखबर हैं. बुधवार को भीड़भाड़ वाली और खास जगहों के साथ वहां भी सुरक्षा नदारद रही जहां आतंकी बम धमाका कर चुके हैं. दैनिक जागरण के रिएलिटी चेक में इसका खुलासा हुआ. कचहरी में सुरक्षा केवल कोरम पूरा होता रहा. यहां विभिन्न गेट पर लगा डोर फ्रेम व हैंड हेल्ड मेटल डिटेक्टर शो पीस बना रहा. लोग बेरोकटोक कचहरी के अंदर एंट्री करते रहे. एंट्री प्वाइंट पर तैनात पुलिस के जवान भी अपनी गति में ड्यूटी करते नजर आए. दशाश्वेध घाट पर पूरे दिन कोई सुरक्षाकर्मी नहीं था. डोर फ्रेम मेटल डिटेक्टर शोपीस रहा. यही हाल शीतला घाट पर भी रहा. कैंट स्टेशन पर लोग जो चाहे लेकर आ और जा रहे थे. वहीं छह दिसम्बर को लेकर पुलिस खुद को सतर्क बता रही है. एसएसपी आनंद कुलकर्णी ने बताया कि थानाध्यक्षों को मुस्तैदी के साथ ड्यूटी करने का निर्देश दिया गया है. बुधवार को कैंट, चेतगंज, लक्सा, दशाश्वमेध, भेलूपुर, कोतवाली, लोहता, जैतपुरा, चौक, शिवपुर, सारनाथ और आदमपुर थानाध्यक्ष पीएसी के जवानों के साथ अपने एरिया में देर शाम तक चक्रमण करते रहे.