- तीन घंटे तक परिसर में रही अराजकता, स्टूडेंट्स ने पुलिस पर जमकर किया पथराव

- रबर बुलेट से फोर्स ने किया उपद्रवी छात्रों को काबू, 18 के खिलाफ मुकदमा

varanasi@inext.co.in
VARANASI : मेस के खाने को लेकर बीएचयू परिसर बुधवार को जंग का मैदान बन गया. बिड़ला-ए और सीवी अय्यर छात्रावासों के स्टूडेंट्स के बीच जमकर मारपीट हुई. अय्यर हॉस्टल में घुसे बिड़ला-ए के छात्रों ने जमकर तोड़फोड़ और आगजनी की. कमरों के अलावा वॉर्डन ऑफिस में रखे कंप्यूटर, फर्नीचर और बाहर खड़ी दो दर्जन से ज्यादा बाइकें भी क्षतिग्रस्त कर दीं. हालात को संभालने पहुंची फोर्स पर भी छात्रों ने जमकर ईट-पत्थर चलाए और पेट्रोल बम से हमला किया. छात्रों को खदेड़ने के लिए 20 थानों की फोर्स को मौके पर बुलाना पड़ा. पुलिस ने रबर बुलेट फायर किए तब जाकर उपद्रवी छात्र नरम पड़े. लंका थाने में 18 छात्रों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है.

जबरन घुसते थे मेस में

बीएचयू में बवाल मेस के खाने को लेकर शुरू हुआ. अय्यर के छात्रों का कहना है कि बिड़ला-ए के छात्र आए दिन उनकी मेस में आकर खाना खाते थे. मंगलवार की सुबह भी यही हुआ. बिड़ला-ए के लगभग 15 छात्र सुबह अय्यर हॉस्टल की मेस में खाना खाने पहुंचे. वहां मौजूद छात्रों ने उन्हें टोका तो बिड़ला के छात्रों ने उनसे गालीगलौज और मारपीट कर ली. खुद को घिरता देख वह धमकी देते हुए निकल गए.

घुसे आए 100 से ज्यादा

15 मिनट बाद ही बिड़ला हॉस्टल के 100 से ज्यादा स्टूडेंट्स दोबारा अय्यर हॉस्टल में घुसे और सामने जो भी पड़ा उसकी पिटाई शुरू कर दी. उपद्रवी छात्रों ने हॉस्टल के कमरों में तोड़फोड़ की तो वॉर्डन के कमरे में रखा कंप्यूटर और फर्नीचर भी तोड़ दिया. कमरों के बाहर खड़ी स्टूडेंट्स की बाइक्स को भी निशाना बनाया. 50 से ज्यादा बाइकों को क्षतिग्रस्त कर दिया. परिसर में आगजनी भी की गई. अय्यर हॉस्टल के स्टूडेंट्स के मोर्चा लेने पर उपद्रवी छात्र भाग निकले. हालांकि मौके पर प्रॉक्टोरियल बोर्ड के सदस्य भी पहुंचे थे मगर बवाली छात्रों के आगे वह मूकदर्शक ही बने रहे. बवालियों के भागने के बाद चार घायल छात्रों को ट्रामा सेंटर पहुंचाया गया. इनमें गंभीर रूप से घायल साइंस फैकेल्टी के छात्र रोहित को भर्ती कर उसका उपचार जारी है.

धरने पर बैठे स्टूडेंट्स

सीएम के आने से कुछ घंटे पहले बीएचयू में बवाल की सूचना पर लंका और मंडुवाडीह थानों की फोर्स के साथ एसपी सिटी दिनेश सिंह और एडीएम सिटी विनय सिंह मौके पर पहुंच गए. बिड़ला-ए हॉस्टल के बाहर पीएसी तैनात कर दी गई. धरने पर बैठे छात्रों से पुलिस अफसर बातचीत कर उन्हें समझाने की कोशिश करने लगे. दोपहर 1.45 बजे तक माहौल शांत हो चुका था.

फोर्स पर फेंके पेट्रोल बम और पत्थर

दोपहर ढाई बजे बिड़ला-ए के छात्र अचानक फिर उग्र हो उठे. छात्रों ने फोर्स पर पेट्रोल बम और पत्थर फेंके. इनके समर्थन में एलबीएस हॉस्टल के छात्र भी आ गए. फोर्स ने गेट पर मौजूद उपद्रवियों को खदेड़ा तो छत पर मौजूद छात्रों ने भारी पथराव शुरू कर दिया. लगभग तीन घंटे तक परिसर में अराजकता की स्थिति बनी रही. कुछ ही देर में कई थानों की फोर्स मौके पर पहुंच गई. होल्कर हाउस चौराहा लगभग आधे घंटे तक फोर्स और उपद्रवी छात्रों के बीच जंग का मैदान बना रहा.

चलाया रबर बुलेट

मौके पर शहरी थानों के अलावा चौबेपुर और फूलपुर तक की फोर्स पहुंच गई. छात्रों को बेकाबू होता देख एडीएम सिटी ने रबर बुलेट फायर करने के आदेश दिए. रबर बुलेट चलने लगे तो उपद्रवी छात्र हॉस्टल की तरफ भागे. फोर्स ने उन्हें दूर तक खदेड़ दिया. शाम चार बजे के बाद हालात काबू में आए. एसपी सिटी और एडीएम सिटी ने चीफ प्रॉक्टर रॉयना सिंह के साथ काफी देर तक कुलपति प्रो. राकेश भटनागर से हालात पर चर्चा की. कुलपति ने दोषी छात्रों को चिह्नित कर उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई के निर्देश दिए हैं. बिड़ला हॉस्टल के तीन कमरों को सील कर दिया गया है.


चिह्नित हुए उपद्रवी, 18 पर मुकदमा

हालात पर काबू पाने के बाद एसपी सिटी ने सभी सीसी कैमरों की फुटेज की जांच के आदेश दिए. फुटेज की जांच के दौरान 50 से ज्यादा उपद्रवी छात्रों को चिह्नित कर लिया गया है. एसपी सिटी ने बताया कि हॉस्टल परिसर में घुसकर तोड़फोड़, आगजनी, हत्या का प्रयास, बलवा, लोक संपत्ति क्षति निवारण अधिनियम और 7 सीएलए के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया गया है. आरोपी छात्रों में अभिषेक राय, प्रिंस, गोविंद कुमार, गौरव सिंह, मंगलम, पवन कुमार, प्रवीन राय, बिट्टू तिवारी, हिदायतुल्लाह, मनीष तिवारी, सत्यम राय, रोहित, राममोहन मिश्रा, अनुज, अंकुर, विभास, और गोविंद हैं. 15 छात्रों को हिरासत में लेकर पुलिस पूछताछ कर रही है.