-इनवेस्टर समिति में निवेशक बढ़ना इसका प्रत्यक्ष उदाहरण

-इंवेस्टर वहीं करेगा निवेश जहां बिजली के साथ मिले सुरक्षा

<द्गठ्ठद्द> क्चन्क्त्रश्वढ्ढरुरुङ्घ<द्गठ्ठद्दद्गठ्ठस्त्र> :

आरयू के दीक्षांत समारोह में शिरकत करने के लिए पहुंचे राज्यपाल राम नाईक यूपी की कानून व्यवस्था पर बोले कि यूपी में कानून व्यवस्था में सुधार हुआ है. सीएम योगी इसके लिए लगातार काम कर रहे हैं. इसीलिए यूपी की कानून व्यवस्था को 100 में 80 मा‌र्क्स देता हूं. हां अभी 20 परसेंट सुधार होना बाकी है, जिसके लिए सरकार लगातार काम कर रही है.

गंभीर प्रवृत्ति के अपराधाें में कमी

दीक्षांत समारोह के बाद आरयू के स्पोर्ट बिल्डिंग में बातचीत के दौरान उन्होंने कहा कि प्रदेश में गंभीर अपराधों पर अंकुश लगा है. हां अभी व्यवस्था में 20 प्रतिशत सुधार की और जरूरत है. इसका प्रत्यक्ष उदाहरण लखनऊ में हुए इंवेस्टर समिट के दौरान हाल में देखने को मिला. इंवेस्टर कहीं तभी निवेश करेगा जब उसे 24 घंटे बिजली मिले दूसरे उसे काननू व्यवस्था सही मिले. क्योंकि काननू व्यवस्था सही नहीं होगी तो इंवेस्टर अपने रुपए गंवाने के लिए नहीं आएगा. कानून व्यवस्था में सुधार के लिए इससे अच्छा उदाहरण नहीं बता सकता. क्योंकि जितनी बड़ी मात्रा में इंवेस्टर ने निवेश किया है इससे पहले कभी नहीं हुआ. इसीलिए कहा जा सकता है कि कानून व्यवस्था में सुधार तेजी से हो रहा है. काननू व्यवस्था के बारे में अधिक पूछताछ करने पर डिप्टी सीएम की तरफ इशारा करते हुए कहा कि हमारे साथ सरकार है अधिक जानकारी यही बता सकते हैं. जिस पर डिप्टी सीएम डॉ. दिनेश शर्मा से जब पूछा कि यूपी में कानून व्यवस्था सुधरी है, लेकिन केशव प्रसाद मौर्या के क्षेत्र में ही एक दारोगा की पीट-पीटकर हत्या कर दी गई. तो सुधार कहां हुआ. जिस पर उन्होंने कहा कि कहीं अपराध हो गया तो इसका मतलब ये नहीं कि अपराध लगातार हो रहे हैं. बोले जो अपराधी खुले घूम रहे थे, वांछित चल रहे थे वह सभी आज सलाखों के पीछे हैं. अपराधियों ने कानून के डर के चलते खुद सरेंडर करना शुरू कर दिया. गंभीर अपराधों पर रोक लगी है.