प्रयागराज के भी तीन लोगों को देवरिया जेल बुलाकर की गयी थी पिटायी

PRAYAGRAJ: देवरिया जेल में अतीक के टॉर्चर का शिकार बने लखनऊ के कारोबारी मोहित प्रकरण की जांच कर रही सीबीआई क्या प्रयागराज के लोगों की देवरिया जेल में हुई पिटायी को नोटिस लेगी। यह चर्चा शुक्रवार को जोरों पर रही।

इस मामले में मुकदमा दर्ज है लेकिन पुलिस ने आज तक बाहुबली सांसद का बयान तक दर्ज नहीं किया है। कोर्ट में अर्जी डालने के बाद पुलिस शांत बैठ गयी। उधर, सीबीआई के केस दर्ज करने के बाद अतीक के गुर्गे अंडरग्राउंड हो गये हैं।

राजू पाल केस भी सीबीआई के पास

नैनी सेंट्रल जेल से अहमदाबाद शिफ्ट किए जा चुके अतीक और उनके भाई पूर्व विधायक अशरफ गए अतीक अहमद पर अतीक का तत्कालीन विधायक राजू पाल मर्डर केस में इनवाल्वमेंट की जांच भी सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर सीबीआई के पास है। सीबीआई अतीक से जुड़े एक और केस की जांच कर चुकी है। यह तीसरा मामला है जब सीबीआई अतीक और उनके साम्राज्य को खंगालेगी। बता दें कि देवरिया जेल में ही प्रापर्टी डीलर मो। खालिद उर्फ जैद, उवैश अहमद व अभिषेक पांडेय को भी अतीक अहमद द्वारा पीटे जाने का मामला सामने आया था। 22 नवंबर 2018 को इस घटना का वीडियो वायरल होने के बाद धूमनगंज थाने में मुकदमा दर्ज हुआ था। मुकदमे में अतीक के अलावा उनके कई रिश्तेदार और गैंग के सदस्य भी शामिल हैं। अतीक देवरिया जेल में थे तो धूमनगंज पुलिस ने अदालत में अर्जी देकर बयान दर्ज करने की अनुमति मांगी थी।

अतीक गैंग के कई सदस्य हैं शामिल

इस केस में अतीक अहमद व उनके साढ़ू इमरान और बहन के दामाद खालिद जफर एवं अली अहमद, सद्दाम, मोहम्मद, हमदान, फैसल, तालिब, उसैद, मो। राशिद उर्फ नीलू, विजय राज, अरशद और शाबिर नामजद हैं। इसमें से छह अब भी पुलिस की पकड़ से दूर हैं। चूंकि देवरिया कांड की जांच सीबीआइ को मिल गई है इसलिए देवरिया से जुड़े इस मामले में भी सीबीआइ का दखल होगा। सीबीआइ अफसर लखनऊ की केस डायरी के साथ यहां की जांच रिपोर्ट भी संज्ञान में लेंगे। धूमनगंज पुलिस ने कागजी कार्यवाही पूरी करनी शुरू कर दी है। अब चार्जशीट की तैयारी भी चल रही है।

वांछित आरोपितों की तलाश में पुलिस टीमें छापामारी कर रहीं हैं। क्राइम ब्रांच और धूमनगंज पुलिस को इस मामले में लगाया गया है।

बृजेश श्रीवास्तव,

एसपी सिटी