i exclusive

-इलाहाबाद राज्य विश्वविद्यालय ने उठाया बिग स्टेप

-परीक्षाओं में सेटिंग करके अंक हासिल करने वालों पर लगाम के लिए लिया गया है निर्णय

vikash.gupta@inext.co.in

PRAYAGRAJ: इलाहाबाद राज्य विश्वविद्यालय ने प्रथम दीक्षांत समारोह के आयोजन से पूर्व बड़ा फैसला किया है. राज्य विवि ने परीक्षाओं में 75 फीसदी से ज्यादा अंक पाने वाले परीक्षार्थियों के मूल्यांकन पर अपनी नजर लगा दी है. परीक्षाओं में सेटिंग के जरिए धुआंधार अंक हासिल करने वालों पर शिकंजा कसने के लिए राज्य विवि ने निर्णय लिया है कि 75 फीसदी से ज्यादा अंक पाने वालों का क्रास एग्जामिनेशन होगा. यह निर्णय समस्त परास्नातक एवं व्यवसायिक पाठ्यक्रम की सत्र 2018-19 के प्रथम सेमेस्टर, सत्र 2017-18 के तृतीय सेमेस्टर एवं सत्र 2018-19 के पंचम सेमेस्टर की मौखिकी/प्रायोगिकी परीक्षा से लागू भी कर दिया गया है.

पहले 75 फीसदी से ऊपर नहीं दिए जाने का था निर्णय

फैसले की जानकारी राज्य विवि की ओर से चारों जनपदों के सभी कॉलेजेस को भेज दी गई है. इसके साथ परीक्षाओं से जुड़ी गाइडलाइन भी भेजी गई है. जानकारों का कहना है कि पहले विवि ने निर्णय लिया था कि 75 फीसदी से ज्यादा अंक प्रदान ही नहीं किए जाएंगे. इसका लिखित आदेश भी जारी कर दिया गया था. जिसका अलग-अलग महाविद्यालयों के शिक्षकों ने यह कहकर विरोध किया कि किसी भी विश्वविद्यालय में इस तरह का नियम नहीं है. जिसके बाद राज्य विवि को फैसले में संशोधन करना पड़ा.

ऐसे नियम किए गए हैं सख्त

-प्राप्तांकों को ऑनलाइन विवि को उपलब्ध करवाना सुनिश्चित करें.

-अभ्यर्थियों के प्राप्तांक की दो प्रतियां तैयार की जाएंगी. इस पर प्राचार्य तथा अन्य परीक्षकों के हस्ताक्षर आवश्यक हैं.

-इसमें एक प्रति संलग्न लिफाफे में सीलबन्द करके परीक्षा नियंत्रक को भेजी जाएगी.

-वहीं दूसरी प्रति प्राचार्य को सीलबन्द लिफाफे में दी जाएगी.

-परीक्षा सम्पन्न होने के बाद प्रायोगिकी/मौखिकी की उत्तर पुस्तिकाएं (यदि कोई हो) महाविद्यालय में सील कराकर सुरक्षित रखी जाएंगी.

- परीक्षार्थी को प्रदान किए गए प्राप्ताकों का विवरण योग के साथ उत्तर पुस्तिका के मुख्य पृष्ठ पर अंकित किया जाना अनिवार्य होगा.

- परीक्षक की नियुक्ति किसी भी हाल में अत्यंत गोपनीय होनी चाहिए.

पहले 75 फीसदी से ज्यादा अंक न दिए जाने का निर्णय लिया गया था. लेकिन बाद में विचार के बाद यह निर्णय लिया गया कि इतने अंक पाने की स्थिति में मौखिकी, प्रैक्टिकल समेत अन्य परीक्षाओं में मूल्यांकन की प्रक्रिया को क्रॉस चेक किया जाएगा.

-डॉ. विनीता यादव, परीक्षा नियंत्रक इलाहाबाद राज्य विश्वविद्यालय