-उद्घाटन के बाद भी गंगा में नहीं शुरू हो सका क्रूज का संचालन

-बाढ़ की वजह से आपस में टूट गया है घाटों का संपर्क, बोट तक नहीं पहुंच पा रहे हैं यात्री

सीएम योगी के हाथों शुभारंभ होने के बाद भी काशीवासी और यहां आने वाले सैलानी क्रूज की सैर का आनंद नहीं उठा पा रहे हैं. क्रूज संचालन नहीं होने की वजह गंगा में आई बाढ़ बताई जा रही है. हालांकि गंगा की सैर को आतुर सैलानियों की बुकिंग और इंक्वायरी बढ़ती ही जा रही है. क्रूज संचालन का जिम्मा लेने वाली कंपनी के निदेशक का कहना है कि बाढ़ के चलते यात्री नहीं पहुंच रहे हैं इसलिए क्रूज का संचालन ठप है. घाटों का आपस में सम्पर्क टूटने के कारण बोट से क्रूज तक का पहुंच मार्ग भी बाधित है. जेटी भी पानी में डूब चुका है. सप्ताह में तीन दिन राजघाट से अस्सी तक क्रूज संचालन कराने का खाका खींचा गया है. अभी दिन भी तय नहीं है कि किस-किस दिन को संचालन किया जाएगा.

सप्ताह बाद संचालन की उम्मीद

सांस्कृतिक राजधानी काशी में आने वाले सैलानियों को यूपी सरकार ने अलकनंदा क्रूज की सौगात दिया है. दो सितंबर को सीएम योगी के हाथ उद्घाटन हुआ. इसके बाद क्रूज तक सैलानी पहुंचे तो जरूर लेकिन सिर्फ सेल्फी और फोटो क्लिक कर सके. खिड़किया घाट पर खड़े क्रूज के संचालन में अभी सप्ताह भर का समय है. कंपनी के निदेशक ने उम्मीद जताया है कि आने वाले एक सप्ताह के बाद ही क्रूज का संचालन संभव हो पाएगा क्योंकि पानी का घटाव जब तक नहीं होगा तब तक क्रूज नहीं चलाया जा सकता है.

सुबह-ए-बनारस, गंगा आरती

अलकनंदा क्रूज में सवार होकर सैलानी राजघाट से अस्सी घाट तक सैर करेंगे. अस्सी पर सुबह-ए-बनारस का नजारा देखेंगे तो शाम को पंचगंगा घाट होते हुए दशाश्वमेघ, शीतला घाट आदि होते हुए तुलसी घाट तक आरती का विहंगम दृश्य देख सकेंगे. इसके लिए प्रति व्यक्ति किराया 885 रुपये रखा गया है. दो फ्लोर के इस क्रूज में छोटे मांगलिक कार्यक्रम, सेमिनार, वर्कशॉप आदि का आयोजन हो सकता है.

एक नजर

02

सितंबर को सीएम योगी ने किया था क्रूज का शुभारंभ

2000

स्क्वायर फीट बड़ा है क्रूज

02

फ्लोर का है अलकनंदा क्रूज

885

रुपये है क्रूज का प्रति व्यक्ति किराया

60

यात्री एक बार में हो सकते है सवार

बाढ़ की वजह से अधिकतर घाटों का संपर्क टूट चुका है. बोट घाटों तक पहुंच नहीं पा रहे हैं, इसलिए क्रूज का भी संचालन ठप किया गया है. संभवत: सप्ताह बाद क्रूज की बुकिंग स्टार्ट हो जाएगी.

विकास मालवीय, निदेशक क्रूज कंपनी