पुराने सिस्टम में सीएसआइ सॉफ्टवेयर, हो रही दिक्कत

रैम कम होने की वजह से सॉफ्टवेयर रन करने में आ रही दिक्कत

Meerut . शहर के सभी डाकघरों में तीन जुलाई को नया सॉफ्टवेयर सीएसआइ (कोर सिस्टम इंटीग्रेट) इंस्टॉल किया गया था, जिसके बाद से डाकघरों में काम लगभग ठप पड़ा है और लोगों को रोजाना लंबी लाइन में लगना पड़ रहा है. घंटाघर के पोस्ट मास्टर बीएल मोना के मुताबिक पुराने कंप्यूटर सिस्टम की रैम कम होने के कारण सीएसआइ सॉफ्टवेयर ठीक प्रकार कार्य नहीं कर रहा है. हमने कंप्यूटर की रैम बढ़वाने और उन्हें अपडेट कराने के लिए बरेली मुख्यालय को लैटर लिखा है.

सिस्टम नहीं अपडेट

दरअसल, डाकघर में अभी भी सन 2000 के सिस्टम पर ही सीएसआइ सॉफ्टवेयर इंस्टॉल कर काम किया जा रहा है. न तो उनमें जरूरी रैम है और न ही अपडेटेड विंडो. नया सॉफ्टवेयर हैवी होने के कारण पुराने कंप्यूटर सिस्टम उसे ढंग से रन नहीं कर पा रहे हैं.

तकनीकी ज्ञान की कमी

सीएसआइ सॉफ्टवेयर ऑपरेट करने का प्रशिक्षण भी कर्मचारियों को सही तरीके से नहीं मिला है. काम के दौरान सीएसआइ के संचालन से संबंधित तकनीकी परेशानी आने पर कर्मचारी हाथ खड़े कर देते हैं. जिससे आम लोगों परेशान का सामना करना पड़ रहा है. शहर के अलावा ग्रामीण क्षेत्रों के लोग भी रोजाना रजिस्ट्री, मनी ऑडर, पार्सल, स्पीड पोस्ट आदि डाक से संबंधित काम कराने के लिए घंटों लाइन में लगे रहते हैं.

ये होगा फायदा

- आर्टिकल स्कैनिंग का झंझट नहीं

- स्पीड पोस्ट, रजिस्ट्री जल्दी पहुंचेंगी

- डाकघरों की कार्य व्यवस्था सुधरेगी

सीएसआइ सॉफ्टवेयर की वजह से डाकघर में रोज कोई ना कोई परेशान आडे़ आ जाती है. जिस कारण से काम अटक जाता है.

अंकुर सिरोही

घंटों लाइन में लगने के बाद भी कोई काम नहीं हो पा रहा है. केवल यह कह दिया जाता है, कि सिस्टम नहीं चल रहा है.

सिद्धार्थ

एक काम के लिए कई-कई चक्कर लगाने पड़ते हैं. परंतु काम फिर भी पूरा नहीं होता है. सीएसआइ सॉफ्टवेयर के बाद से परेशानी और बढ़ गई है.

मो. आजम