150 से ज्यादा मुकदमें साइबर सेल में हैं लंबित

10 अगस्त से मुरादाबाद में होगी पुलिसकर्मियों की ट्रेनिंग

2 माह की ट्रेनिंग कराई जाएगी मुरादाबाद में

स्टॉफ की कमी की वजह से भी नहीं हो पाती जल्दी कार्रवाई

Meerut. पुलिस महकमा आधुनिक तकनीक के साथ कदम से कदम मिलाकर बढ़ने की कोशिश कर रहा है. लेकिन साइबर क्राइम पर नकेल कसने में साइबर सेल की रफ्तार बेहद धीमी है. यही वजह है कि साइबर सेल में इस समय फेसबुक, वाट्सऐप, ट्विटर आदि से जुड़े करीब 150 से ज्यादा मामले पेंडिंग हैं. एसपी क्राइम शिवराम यादव ने बताया कि साइबर सेल में टेक्निकल स्टाफ की कमी है. जिसके चलते कई मामलों में एवीडेंस नहीं मिल पाते हैं. जिससे मुकदमों की पेंडेसी बनी हुई है. एसएसपी राजेश कुमार पांडेय ने बताया कि कांवड़ यात्रा के बाद साइबर क्राइम से निपटने के लिए ट्रेनिंग कराई जाएगी. उन्होंने बताया कि 10 अगस्त से मुरादाबाद पुलिस ट्रेनिंग स्कूल में आधिकारियों को साइबर क्राइम से निपटने के लिए ट्रेनिंग कराई जाएगी. यह ट्रेनिंग दो माह की होगी.

ये हैं चर्चित मामले

37 अरब की ऑनलाइन ठगी

पिछले साल साइबर सेल में एब्लेज इंफो सोल्यूशन कंपनी के खिलाफ 37 अरब का ऑनलाइन ठगी का मुकदमा दर्ज हुआ था. जिसमें कंपनी मालिक व मेरठ निवासी अनुराग गर्ग समेत पांच अन्य आरोपी जेल जा चुके हैं. इसमें 180 लोगों ने मुकदमा दर्ज कराया था. इस मामले की जांच दरोगा कर्मवीर सिंह कर रहे हैं.

फर्जी फेसबुक पेज बनाया

29 नवंबर को हैकर्स ने तत्कालीन एसएसपी मंजिल सैनी का फर्जी फेसबुक पर पेज बना दिया था. साइबर सेल में यह मुकदमा दर्ज हुआ था लेकिन अभी इस मामले की जांच पेंडिग में है.

पीएम मोदी का आपत्तिजनक वीडियो

2 अक्टूबर को एसएसपी के पीआरओ ग्रुप में एक युवक ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आपत्तिजनक वीडियो सेंड कर दिया था. जिसमें एसएसपी मंजिल ने आरोपी युवक के खिलाफ साइबर सेल में मुकदमा दर्ज कराया था.