- सिंगल विंडो सिस्टम पर पीडि़त को मिलेगी राहत

- खोया पाया सेल की तरह हजरतगंज खुलेगा साइबर रजिस्टर्ड सेल

- किसी भी थाने से संबंधित शिकायत दर्ज होगी साइबर सेल में

LUCKNOW : साइबर फ्रॉड का शिकार होने पर पीडि़त को अब थानों के चक्कर नहीं लगाने होंगे। घटना का शिकार होने पर पीडि़त को रिपोर्ट दर्ज के लिए थाने से लेकर साइबर सेल के चक्कर लगाने पड़ते हैं। मालूम हो कि बिना एफआईआर के साइबर सेल फ्रॉड के मामले की जांच नहीं करता है। पीडि़त को राहत देने के लिए अब हजरतगंज थाने में खोया पाया सेल की तरह साइबर कंप्लेंट सेल चालू किया जा रहा है। यहां पर किसी भी थाने से संबंधित साइबर फ्रॉड की शिकायत दर्ज कराने के साथ उसकी एक कॉपी साइबर सेल को भेजी जाएगी। इस सेल की मॉनीटरिंग साइबर सेल के नोडल इंचार्ज और निगरानी एसएसपी करेंगे।

देर में रिपोर्ट दर्ज होने से नहीं मिल पाती मदद

साइबर फ्रॉड के मामले में पीडि़त को रिपोर्ट दर्ज कराने में चार से पांच दिन लग जाते हैं। ऐसे में पीडि़त का पैसा वापस मिलने की संभावना खत्म हो जाती है। जबकि एकाउंट से फ्रॉड होने के 24 घंटे के भीतर कार्रवाई शुरू होने पर पैसा वापस होने की ही संभावना होती है। कई मामलों में देरी के चलते पीडि़त की मदद नहीं हो पाती है। साइबर फ्रॉड के हर दिन 70 से 80 मामले आते हैं।

थाने में मामलों को नहीं लिया जाता गंभीरता से

एसएसपी कलानिधि नैथानी ने बताया कि अक्सर शिकायत सुनने को मिलती है कि थानों पर साइबर क्राइम से संबंधित केस दर्ज करने में लापरवाही की जाती है। यहीं नहीं साइबर क्राइम के कई मामलों में थाने पर धोखाधड़ी की रिपोर्ट ही दर्ज की जाती है जबकि ऐसे मामलों में आईटी एक्ट के तहत भी रिपोर्ट दर्ज होनी चाहिए। साथ ही थाना विवेचना को भी गंभीरता से नहीं लेता है।

स्पेशल काउंटर किया जाएगा शुरू

एसएसपी ने हजरतगंज थाने में साइबर क्राइम से जुड़े मामलों की शिकायत के लिए स्पेशल काउंटर खोलने का फैसला लिया है। एसएसपी ने सीओ हजरतगंज से इस संबंध में विस्तृत रिपोर्ट मांगी है। एसएसपी ने बताया कि साइबर क्राइम से जुड़े किसी भी मामले की शिकायत इस काउंटर पर की जा सकेगी। पीडि़त की तहरीर पर त्वरित कार्रवाई की जाएगी। साइबर क्राइम सेल मामले में छानबीन शुरू कर देगा। इसके अलावा पीडि़त की तहरीर पर रिपोर्ट दर्ज करने के लिए मार्क करके संबंधित थाने में भी भेज दिया जाएगा। इस व्यवस्था से थानों पर पुलिसकर्मी पीडि़त को दौड़ा नहीं यकेंगे। रिपोर्ट दर्ज करके पीडि़त को उसकी कॉपी उपलब्ध कराना उनके लिए अनिवार्य हो जाएगा।

सीओ हजरतगंत करेंगे मॉनीटरिंग

एसएसपी ने बताया कि इस विशेष काउंटर की मॉनीटरिंग सीओ हजरतगंज साइबर क्राइम सेल के नोडल प्रभारी अभय मिश्रा करेंगे। साथ ही इस मामले में लापरवाही बरतने वाले थाने और कोतवाली प्रभारियों पर सख्त कार्रवाई की जाएगी। साइबर क्राइम से जुड़े लंबित मामलों की समीक्षा भी की जाएगी।

कोट-

साइबर फ्रॉड के मामले हर दिन बढ़ते जा रहे हैं। कई बार शिकायत मिलती है कि थानों में केस दर्ज कराने के लिए पीडि़तों को चक्कर लगाना पड़ता है। खोया पाया सेल की तरह हजरतगंज में सिंगल विंडो सिस्टम के तहत साइबर फ्रॉड के लिए स्पेशल सेल बनाया जा रहा है।

कलानिधि नैथानी, एसएसपी