क्त्रन्हृष्ट॥ढ्ढ : नगर विकास विभाग की तरफ से शुरू की जाने वाली पब्लिक साइकिल शेयरिंग योजना का लाभ जल्द ही राजधानीवासियों को मिलने वाला है. स्मार्ट सिटी मिशन के तहत पीपीपी मॉडल पर शुरू होने वाली यह योजना राजधानी के लोगों के आवागमन सुविधा के लिए काफी फायदेमंद साबित होगी. इसके लिए विभाग की तरफ से 50 स्टेशनों पर डॉक प्लेट लगाने का काम अंतिम चरण में है. वहीं साइकिल में लगने वाले पा‌र्ट्स को रांची लाया जा चुका है. अब यहां इसका असेंबल किया जा रहा है. संभवत: दिसम्बर माह के अंत तक योजना की शुरुआत हो सकती है.

50 स्टेशनों का काम लास्ट स्टेज में

स्मार्ट सिटी मिशन के तहत रांची में शुरू होने वाली पब्लिक साइकिल शेयरिंग योजना नगर विकास की एक महत्वाकांक्षी योजना है. इस योजना के तहत राजधानी के लोगों को सुगम और सुदृढ़ आवागमन के लिए विभिन्न जगहों पर साइकिल की सुविधा मिल सकेगी. इसके लिए पहले ही विभाग ने स्मार्ट सिटी कॉरपोरेशन लिमिटेड के अधिकारियों को निर्देश दिया था कि शहर के विभिन्न इलाकों में बननेवाले डॉक (संबंधित जगहों पर साइकिल स्टेशन) के लिए जगह जल्द ही चिन्हित किए जाएं. इसी कड़ी में विभाग ने राजधानी रांची के 50 स्थलों पर स्टेशन बनाने का काम शुरू कर दिया है, जो अंतिम चरण में है. जानकारी के मुताबिक रांची कॉलेज के पास आईएमएस, सिदो-कान्हू नू पार्क, न्यू मार्केट चौक पर स्टेशन निर्माण का कार्य करीब-करीब अंतिम चरण में है.

इटली-जर्मनी से साइकिल पा‌र्ट्स आए

नगर विकास विभाग के जन संपर्क पदाधिकारी अमित कुमार ने बताया कि योजना के तहत राजधानी रांची में 120 स्टेशन पर करीब 1200 साइकिल चलाने की योजना है. यह योजना दो चरणों में प्रस्तावित है. पहले चरण में 60 स्टेशनों पर 600 साइकिल और दूसरे चरण में इतने ही स्टेशनों पर 600 साइकिल चलायी जानी है. करीब 50 स्टेशनों पर डॉक बनाने का काम किया जाना है. उन्होंने बताया कि पहले यह योजना राजधानी के मेन रोड, कचहरी जैसे इलाकों में चलायी जानी थी. वहीं अब इसका विस्तार करके हवाई अड़्डा, हिनू, डोरंडा, एचईसी और धुर्वा तक किया जा चुका है. साइकिल में लगने वाले पा‌र्ट्स को इटली व जर्मनी से आयात किया गया है. वहीं राजधानी रांची में इन साइकिलों को असेंबल किया जा रहा है.