क्त्रन्हृष्ट॥ढ्ढ : सिटी की एक और महत्वाकांक्षी योजना अधूरी तैयारी की भेंट चढ़ने वाली है. जी हां, बात हो रही है साइकिल शेयरिंग प्रोजेक्ट की, जिसे लेकर सरकारी महकमे के भीतर ही अब सवाल उठने लगे हैं. आलम यह है कि अधूरी तैयारी के कारण अब इस प्रोजेक्ट पर ही ग्रहण लगता नजर आ रहा है. राज्य के विकास आयुक्त डीके तिवारी ने इस परियोजना की समीक्षा के लिए बुलाई गई एक बैठक में अपनी नाराजगी जाहिर कर दी है. उन्होंने सवाल खड़ा किया है कि जिस सिटी में पहले ही गाडि़यों की बाढ़ है, लोगों का पैदल चलना मुश्किल है, वहां साइकिल कैसे चलेंगे? उनकी इस आपत्ति के बाद पूरा प्रोजेक्ट खटाई में पड़ता नजर आ रहा है. खास बात तो यह है कि शहर में इस प्रोजेक्ट को लागू करने के लिए 77 साइकिल स्टेशन बनाए जा चुके हैं. लाखों खर्च करने के बाद अधिकारियों को होश आया है कि शहर की संरचना इस प्रोजेक्ट को सफल करने के काबिल ही नहीं है.

डेडलाइन पहले ही पार

सिटी को स्मार्ट बनाने की दिशा में साइकिल शेयरिंग प्रोजेक्ट की शुरुआत होनी थी. इसी साल अप्रैल के महीने में सभी साइकिल शेयरिंग स्टेशन खुल जाने थे और लोगों को इसके लिए अवेयर भी किया जाना था. अगस्त का महीना आ चुका है, लेकिन अब तक इस दिशा में कोई सकारात्मक पहल नहीं हुई है. इस प्रोजेक्ट से जुड़े अधिकारी भी अब यह बताने की स्थिति में नहीं हैं कि प्रोजेक्ट कब शुरू होगा. बार-बार डेट फेल हो जाने के बाद भी अभी तय नहीं है कि अब प्रोजेक्ट कब शुरू होगी.

नहीं खरीदी गई साइकिलें

इस प्रोजेक्ट के लिए अभी तक साइकिलें नहीं खरीदी गयी हैं. फिलहाल सिटी में 77 स्टेशंस के लिए पीसीसी का काम पूरा हो चुका है. 20 स्टेशनों के लिए खुदाई हो चुकी है. कुछ और स्टेशन बनाने के लिए जगह को लेकर काम किया जा रहा है. इसके लिए 120 साइकिल स्टेशन बनाए जाने की योजना है. लगभग 1200 साइकिल इस्तेमाल करने की तैयारी थी.

क्या है साइकिल शेयरिंग प्रोजेक्ट

राजधानी के लोगों के लिए नगर विकास विभाग ने साइकिल शेयरिंग प्रोजेक्ट की पहल की थी. इसके तहत जर्मनी से आधुनिक साइकिल मंगाने का प्रस्ताव है. इसके लिए पांच रुपए किराया तय किया गया है. हर 200 मीटर की दूरी पर एक स्टेशन होगा. नगर विकास विभाग ने अहमदाबाद की कंपनी चार्टेड स्पीड प्राइवेट लिमिटेड को इस काम का जिम्मा दिया है. ज्ञात हो कि रांची में कुल 11.50 वर्ग किमी में साइकिल की सवारी का प्रस्ताव है.

कहां-कहां बनने हैं साइकिल स्टेशन

कांके रोड, धुर्वा, हरमू बाईपास रोड, रातू रोड चौक, बरियातू रोड, रिम्स, बूटी मोड़, दीपाटोली, कोकर चौक, लालपुर, सरकुलर रोड, कांटाटोली, बहू बाजार, स्टेशन रोड, पुरूलिया रोड, सुजाता चौक, डोरंडा, हिनू, चांदनी चौक, मोरहाबादी मैदान, गांधीनगर, सीएमपीडीआई, रिलायंस मार्ट, प्रेमसंस मोटर, सिदो- कान्हू पार्क, इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट स्टडीज रांची कॉलेज, आदिवासी शोध संस्थान, चिल्ड्रन पार्क मोरहाबादी, नक्षत्र वन, जाकिर हुसैन पार्क, कचहरी चौक, रांची नगर निगम, पंचवटी प्लाजा, रांची यूनिवर्सिटी, शहीद चौक, अल्बर्ट एक्का चौक, अंजुमन प्लाजा, रतन टॉकीज, जीईएल चर्च, रोस्पा टावर, सुजाता चौक और बिग बाजार के पास स्टेशन बनाए जा रहे हैं.