रोज लगाएंगे ध्‍यान तो कमजोर नहीं होगी याद्दाश्‍त

अमेरिका की कैलीफोर्निया यूनीवर्सिटी में हुई एक हालिया रिसर्च के बाद रिसर्च टीम ने इस रिजल्‍ट का खुलासा किया कि रोजाना थोड़ी देर मेडिटेशन यानि ध्‍यान में बैठने से बच्‍चे, जवान या बुजुर्ग सभी अपनी मेमोरी को शार्प यानि बेहतर बना सकते हैं। रिसर्च टीम ने ध्यान करने के प्रभावों की जाचं करने के लिए करीब 30 लोगों पर लंबी रिसर्च की। इन 30 लोगों ने 3 महीने से ज्‍यादा वक्‍त तक हर रोज कुछ वक्‍त के लिए ध्‍यान का अभ्‍यास किया, जिसके शानदार परिणाम देखने को मिले।

(Meditation) ध्‍यान से बुजुर्गों को होता है सबसे ज्‍यादा फायदा

ध्‍यान के प्रभावों को लेकर की गई इस नई रिसर्च में दौरान वैज्ञानिकों ने य‍ह पाया कि नियमित रूप से सुबह या शाम ध्‍यान में बैठने से उम्रदराज लोगों की मेमोरी पावर पर जबरदस्‍त असर देखने को मिलता है। यानि कि बुजुर्ग लोग रोजाना ध्‍यान लगाकर अपनी याद्दाश्‍त को बेहतर बना सकते हैं। मेमोरी को लेकर यह सामान्‍य नियम सभी को मालूम है कि उम्र बढ़ने के साथ साथ लोगों की याद्दाश्‍त कम होती जाती है, लेकिन रिसर्च के दौरान यह पाया गया कि जो उम्रदराज लोग हर रोज ध्‍यान लगान का अभ्‍यास करते हैं, उनका दिमाग बहुत सारी नई पुरानी बातों को भी आसानी से याद रख पाता है। कुल मिलाकर इस रिसर्च के आधार पर यह कहा जा सकता है कि ध्‍यान लगाने से दिमाग ज्‍यादा एकाग्र होता है, जिससे मेमोरी पावर इंप्रूव होती है।

ध्यान लगाने से याददाश्त होगी बेहतर,वैज्ञानिकों ने किया दावा

मेडिटेशन क्‍या है और इसे कैसे करेंगे?

अपने चंचल मन और दिमाग को यहां वहां भागने और भटकने से रोकने के लिए जब हम किसी एक चीज, जगह या माथे के बीचो बीच अपने ध्‍यान को केंद्रित करते हैं, तो उसे मेडिटेशन कहते हैं। इस दौरान हम अपने आसपास की चीजों और घटनाओं से ध्‍यान को हटाकर अपने अंतर्मन की आवाज को सुनने की कोशिश करते हैं। हालांकि मेडिटेशन सुनने में जितना आसान लगता है, उतना है नहीं। साधक लोग ध्‍यान लगाने के लिए जो तरीका बताते हैं। उसके अनुसार ध्‍यान हमेशा किसी एकांत जगह पर बैठकर ही करना चाहिए। फिर अपने ध्‍यान को अपने आसपास की वस्‍तुओं से हटाकर अपने माथे के बीचोबीच स्थिर करना चाहिए। शुरुआत में ध्‍यान आसानी ने नहीं लगता, ले‍किन बार बार के प्रयासों से आप मेडिटेशन करने में सफल हो जाएंगे।

यह भी पढ़ें:

अब नहीं जाना पड़ेगा पैथालॉजी लैब! स्‍मार्टफोन से चुटकियों में होगा ब्लड टेस्ट

इस स्‍कूल में रोबोट बन गया है टीचर, जो 23 भाषाओं में पढ़ा सकता है और गुस्‍सा भी नहीं करता!

एलर्ट! डाइटिंग करने से कम नहीं, बल्कि बढ़ जाता है वजन, हुआ खुलासा

International News inextlive from World News Desk