रसूलाबाद के दधिकांदो मेला का मुख्य आकर्षण होगी एल्यूमिनियम से बनी प्रभु श्रीकृष्ण की प्रतिमा

allahabad@inext.co.in

ALLAHABAD: श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के बाद दधिकांदो मेला की रौनक दिखाई देने लगेगी. शहर के पांच मुख्य एरिया में वर्षो में दधिकांदो मेले का आयोजन होता है. इसमें से एक रसूलाबाद एरिया का दधिकांदो होगा जहां पर इस बार मेला का मुख्य आकर्षण प्रभु श्रीकृष्ण की बारह फिट ऊंची प्रतिमा होगी. इस प्रतिमा से शहरियों को अलौकिक एहसास होगा. इसके लिए श्री कृष्ण दधिकांदो उत्सव कमेटी की ओर से खासतौर से प्रभु श्रीकृष्ण की प्रतिमा को एल्यूमिनियम से बनवाया गया है. इसे वाराणसी के एक दर्जन कारीगरों से बीस दिनों में तैयार किया है.

सूप में बिठाकर किया था श्रीगणेश

श्रीकृष्ण दधिकांदो उत्सव कमेटी के कार्यवाहक अध्यक्ष अनिल कुमार कुशवाहा की मानें तो अंग्रेजी हुकूमत को जवाब देने के लिए प्रयाग में 1890 में तीर्थ पुरोहित राम कैलाश पाठक, स्वतंत्रता सेनानी विजय चंद्र व सुमित्रा देवी ने दधिकांदो की शुरुआत की थी. लेकिन रसूलाबाद मेला की शुरुआत इसके बीस साल बाद हुई. जब राम पदारथ मिश्रा ने श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के दिन ठाकुर जी की मूर्ति को सूप में बिठाकर उसे गंगा स्नान कराया. स्नान के बाद मूर्ति को ठाकुर द्वारा मंदिर में स्थापित किया गया था.

1911 में हुआ था कमेटी का गठन

1911 में स्व. बाबू श्यामलाल राठौर जी के प्रयासों से श्रीकृष्ण दधिकांदो उत्सव कमेटी का गठन किया गया था. उनके बाद उनके पुत्र स्व. करन सिंह के संरक्षण में मेला होता रहा. लेकिन पिछले सात वर्षो से उनके पौत्र अमर सिंह राठौर के संरक्षण में मेला आयोजित हो रहा है.

पंद्रह सितम्बर को होगा आयोजन

श्री कृष्ण दधिकांदो उत्सव कमेटी की ओर से रसूलाबाद का दधिकांदो मेला पंद्रह सितम्बर को आयोजित किया जाएगा. इसका शुभारंभ ठाकुर द्वारा मंदिर में प्रभु श्रीकृष्ण की बारह फिट की प्रतिमा का पूजन-अर्चन कर किया जाएगा.

इन एरिया में होगा दधिकांदो

श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के साथ ही दधिकांदो मेला की तैयारियां जोरों पर शुरू हो जाती हैं. सबसे पहले सलोरी एरिया में मेला आयोजित होता है. उसके बाद सुलेमसराय, रसूलाबाद और राजापुर में मेला होता है. जबकि कीडगंज एरिया में दो दिनों तक अलग-अलग मार्गो पर मेले का आयोजन किया जाता है.

चांदी के हौदे पर प्रभु को विराजमान किया जाएगा और उनकी बारह फिट की एल्मुनियम की प्रतिमा मुख्य आकर्षण होगा. कलात्मक झांकियां निकालने वाली कमेटियों से बातचीत चल रही है. इस बार एक दर्जन झांकियां निकाली जाएंगी.

-अनिल कुमार कुशवाहा, कार्यवाहक अध्यक्ष कमेटी

खास बात

12 फिट ऊंची है कान्हा की प्रतिमा

12 कलाकारों ने किया है तैयार

20 दिन तक की गई है मेहनत