- आई नेक्स्ट में छपी खबर छपने के बाद सामाजिक संस्था ने वीसी से कॉन्टैक्ट कर दी ट्रेनिंग देने की पेशकश

GORAKHPUR: डिजास्टर को मैनेज करने और उसके लिए एक्सपर्ट तलाश रही गोरखपुर यूनिवर्सिटी को राहत मिली है. आई नेक्स्ट में 'कैसे मैनज होगी आपदा' न्यूज पब्लिश होने के बाद यूनिवर्सिटी की हेल्प के लिए पहला कदम बढ़ा है. सामाजिक संस्था ने यूनिवर्सिटी से डिजास्टर मैनेजमेंट की पढ़ाई करने वाले स्टूडेंट्स को मैनेजमेंट की बारीकियां सिखाने के लिए यूनिवर्सिटी से पेशकश की. इसके लिए संस्था के एक प्रतिनिधिमंडल ने वीसी प्रो. अशोक कुमार से मुलाकात की और स्टूडेंट्स को सपोर्ट देने की बात की.

सभी तरह से करेगी हेल्प

पहला कदम के प्रतिनिधि ने वीसी से की मुलाकात के दौरान कई प्वाइंट्स पर अपनी बातें रखीं. इसमें जहां संस्था ने ट्रेनिंग के लिए फैकेल्टी प्रोवाइड कराने की बात कही है, वहीं स्टडी मैटेरियल्स, राहत और बचाव के लिए जरूरी इक्विपमेंट्स की उपलब्धता और प्रैक्टिकल के थ्रू इंफॉर्मेशन देने के साथ ही एजुकेशन टूर भी ऑफर किया है. इतना ही नहीं समय-समय पर जिला आपदा प्रबंध प्राधिकरण, गोरखपुर और आपदा प्रबंधन के क्षेत्र में कार्य कर रही अंतर्राष्ट्रीय, राष्ट्रीय, स्थानीय स्तर के सरकारी व गैर सरकारी संगठनों के साथ संपर्क कर ट्रेनिंग प्रोग्राम भी ऑर्गेनाइज किए जाएंगे.

वीसी ने एचओडी को दिया निर्देश

वहीं वीसी प्रो. अशोक कुमार ने संस्था द्वारा प्रस्तुत प्रस्ताव की सराहना की. उन्होंने डिजास्टर मैनेजमेंट स्टूडेंट्स को प्रैक्टिकली ट्रेंड किए जाने की बात कही. उन्होंने मॉक ड्रिल के थ्रू भी स्टूडेंट्स को ट्रेंड किए जाने की बात कही. इसका प्रपोजल उन्होंने डिफेंस स्टडी के एचओडी को फारवर्ड कर दिया. प्रतिनिधिमंडल में आपदा प्रबंध प्राधिकरण, गोरखपुर से गौतम गुप्ता, परियोजना अधिकारी उपस्थित रहे. संस्था के पदाधिकारियों में मनोज कुमार जायसवाल, पवन कुमार शुक्ल और गजेंद्र सिंह बघेल भी साथ में मौजूद रहे.