कहानी :
लव रंजन की दुनिया में डिस्काउंट 'लोलिता'।

रेटिंग : 2 स्टार

समीक्षा :
जैसे हमेशा करता हूँ पहले बता दूं कि क्या क्या पसंद नहीं आया। फिल्म की स्टोरी बहुत ही छिछली है, न तो ये समझ आता है कि लड़की अपनी दुगनी उम्र के मर्द से क्‍या चाहती है। जो लड़की अनअपोलोजेटिक लेवल पर आजाद खयाल है, उसको क्या पड़ी है ऐसे बेमेल रिश्ते में घुसने का। जो एक गजब प्रेम कहानी का प्लाट हो सकता था वो महज एक थॉट बन कर रह जाती है। फिल्म की दो हेरोइन एक दूसरे को एज शेम करती है और एक लेवल पर आकर यही बात इरिटेट करने लगती है। फिल्म की राइटिंग इंकॉनसिस्टेंट है कहीं कहीं फनी है तो कहीं बिल्कुल डल। फिल्म कम से कम 30 मिनट छोटी की जा सकती है, और चूंकि आकिव अली पेशे से ही एडिटर हैं इसलिए ये एक बड़ा मलाल है। फिल्म अपनी ही थीम को डिफेंड नहीं कर पाती है और इस फिल्म का सेकंड हाफ बेहद अझेल है, आप प्रार्थना करने लगते हैं कि फिल्म जल्दी खत्म हो।

दे दे प्‍यार दे... मूवी रिव्‍यू : चीनी कम वाली कहानी मीठी की बजाय हो गई खट्ठी

क्या अच्छा है:
ये एक वेल शॉट फिल्म है और फिल्म का म्यूजिक ठीक ठाक है। फिल्म का फर्स्ट हाफ और फिल्म के कुछ डायलॉग जरूर अच्छे हैं।

अदाकारी :
अजय देवगन बिल्कुल अनइन्टरेस्टेड से दिखते हैं, किसी कारण से वो अपने रोल में फिट नहीं दिखते हैं, एब्स के बावजूद (शायद एब्स के कारण ही), जबकि उनकी कॉमिक टाइमिंग बढ़िया है, ये हम सब जानते हैं। तबू अकेली वो किरदार हैं जो जिस सीन में आती हैं मजा ही आ जाता है, अगर वो न होतीं तो मैं सेकंड हाफ में सो जाता। रकुलप्रीत बहुत अच्छी दिखती हैं और बहुत ही रद्दी एक्टिंग करती हैं, उनमें कटरीना बनने के सारे गुण हैं। आलोक नाथ को देख कर मन उचट जाता है।

 

वर्डिक्‍ट :
कुल मिलाकर इस फिल्म के प्लाट में न तो कोई नयापन है, इसी थीम पर बनी 'चीनी कम' मूवी इससे लाख गुना बेहतर फिल्म थी। हो सके तो उस फिल्म को देख डालिये, तबू उसमे भी हैं। अमिताभ बच्‍चन और तबू की उस लवस्टोरी से आपको जरूर प्यार हो जाएगा। फिर भी अगर तबू के बड़े फैन हों तो जाइये इस नई फिल्म को प्यार दे आइये, वर्ना स्किप करके इसके TV पर आने का इंतज़ार कीजिये, वही बेहतर होगा।

Review by : Yohaann Bhaargava

Bollywood News inextlive from Bollywood News Desk