-गंगा में डूबने से B.Tec स्टूडेंट की मौत

-परिवार की जानकारी के बिना दोस्तों के साथ गया था घाट

-तैरने नहीं आने के बावजूद गंगा में लगाई छलांग

varanasi@inext.co.in

VARANASI : दोस्तों के साथ घाट घूमने निकला बीटेक का स्टूडेंट शनिवार की शाम तैरना न आने के बावजूद गंगा में नहाने उतर गया. सबकी नजरों के सामने डूबने लगा. दोस्त मदद के लिए चीखते रहे लेकिन गहरे पानी में समा गया. पुलिस ने गोताखोरों की मदद से लाश को बाहर निकाला. बेटे की मौत से बदहवास पिता बार-बार यही कहता रहा बेटा धोखा देकर चला गया.

तीन दिन पहले आया था घर

लंका थाना एरिया के सुसवाही नासिरपुर के रहने वाले झारखण्डे राय के दो बेटों में से बड़ा बेटा बैंगलोर से इंजीनियरिंग कर रहा है. छोटा बेटा शुभम राय (क्7 वर्ष) लखनऊ स्थित बाबू बनारसी दास इंजीनियरिंग कॉलेज में बीटेक प्रथम वर्ष का स्टूडेंट था. कॉलेज में छुट्टी होने की वजह से तीन दिन पहले घर आया था. ज्यादातर वक्त परिवार के साथ बिताता था. प्राइवेट कोचिंग में बतौर टीचर पढ़ाने वाले पिता बेटे का खास ख्याल रखते थे. उन्हें बेटे का दोस्तों के साथ बाहर जाना अच्छा नहीं लगता था. इसके लिए हिदायत भी दी थी.

बिना बताए निकला घर से

शनिवार को शुभम दिन भर घर में था. शाम को आसपास रहने वाले उसके दोस्त आ पहुंचे. उससे गंगा घाट घूमने के लिए कहा. शुभम ने देखा कि पिता घर में सो रहे हैं तो बिना किसी को बताए दोस्तों के साथ निकल पड़ा. सभी अस्सी घाट पहुंचे. टहलते हुए भदैनी जा पहुंचे. यहां शुभम ने नहाने की इच्छा जतायी. दोस्तों को मालूम था कि उसे तैरना नहीं आता है तो उन्होंने उसे मना किया. लेकिन उसने किसी की बात नहीं सुनी और कपड़े घाट पर रखकर गंगा में छलांग लगा दिया. जहां शुभम कूदा वहा पानी काफी गहरा था. वह डूबने लगा. यह देख दोस्तों के होश उड़ गए. सभी चीखने लगे. जब तक आसपास के लोग मदद के लिए पहुंच पाते इसी बीच शुभम गहरे पानी में समा गया.

घर में मचा कोहराम

सूचना पर पहुंची पुलिस ने दोस्तों से शुभम के परिवार की जानकारी ली. नरिया में रहने वाले उसके फूफा और चाचा को सूचना दी दी. घटना की जानकारी होते ही फैमिली में कोहराम मच गया. सभी भागे-भागे घाट पर पहुंचे. पुलिस ने गोताखोरों की मदद से लाश को बाहर निकाला. इस बीच पिता झारखण्डे राय भी आ पहुंचे. बेटे की मौत का सदमा बर्दाश्त नहीं कर पा रहे थे. बार-बार यही कहते रहे कि बेटा उन्हें धोखा देकर निकला और अब कभी नहीं लौटेगा.