बदले की मंशा से
जानकारी के मुताबिक अफ्रीका के देश बुरुंडी के वर्तमान हालत काफी नाजुक हैं। यहां हिंसा का सिलसिल जारी है। इस देश में हर रोज राष्ट्रपति कुरुनजीजा के विरोधी और उनके समर्थकों के मारे जाने की खबरें आती रहती हैं। बुरुंडी में मई में तख़्तापलट की कोशिश की गई थी। इसके बार भी राष्ट्रपति पियारन कुरुनजीजा के पद पर बने रहने के बाद से यहां पर ऐसे हालाता बने हैं। हिंसा और लोगों के शव मिलना बंद नहीं हो रहा है। इसी क्रम में दो दिन पहले शुक्रवार को यहां पर राजधानी बुजुमबुरा जबर्दस्‍त हिंसा हुई। स्थानीय लोगों का कहना है कि पुलिस ने बदले की मंशा से इस कृत्‍य को अंजाम दिया है। पुलिस ही यहां पर युवाओं को गिरफ्तार करने के बाद उनकी हत्या कर रही है।

प्रतिष्‍ठानों पर हमला
कहा जा रहा है कि यहां पर राजधानी बुजुमबुरा में शुक्रवार को 34 शव में मिले हैं। जिनमें करीब 8 सुरक्षाकर्मी भी शामिल है। वहीं पुलिस का कहना है कि ये आरोप बेबुनियाद है। ये मारे गए लोग वो हैं जिन्‍होंने सरकारी प्रतिष्‍ठानों पर हमला किया था। सशस्त्र हमलावरों ने संगठित तौर पर तीन जगहों  नगागारा, मुसागा और मुजेजुरु पर हमला किया था। जिसमें 12 विद्रोही मारे गए हैं। बुरुंडी देश में इन हालातों से वहां पर लोगों में खौफ फैला है। लोग घरों से निकलने में कतराते हैं। इसके अलावा में अपनी सुरक्षा को लेकर भी काफी भयभीत हैं। जिससे अब तक यहां पर 90 लोगों की मौत हो चुकी हैं। गौरतलब है कि संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट के अनुसार अप्रैल से अब तक यहां हुई हिंसा में 240 लोगों की हत्‍या हो चुकी है। इसके अलावा करीब दो लाख से ज़्यादा लोग देश छोड़कर चले गए हैं।

inextlive from Business News Desk

International News inextlive from World News Desk