कुमार व‍िश्‍वास अपनी व्यस्तताओं की वजह से समय नहीं दे सकते
आम आदमी पार्टी इन दिनों राजस्‍थान में होने वाले व‍िधानसभा को लेकर खास तैयारी कर रही है। इसके ल‍िए वह पार्टी में भी बड़े पर‍िवर्तन करने में पीछे नही है। हाल ही में आम आदमी पार्टी की पॉलिटिकल अफेयर्स कमेटी ने राजस्‍थान में पार्टी प्रभारी के तौर पर अपने वरिष्ठ नेता दीपक बाजपेई को यह ज‍िम्‍मेदारी सौंप दी है। इस संबंध में आप के राष्ट्रीय प्रवक्ता आशुतोष ने कहना है क‍ि आम आदमी पार्टी राजस्थान में विधानसभा चुनाव पूरी ताकत से लड़ेगी।

दीपक बाजपेई चुनाव को लेकर उम्‍मीदवारों की ल‍िस्‍ट भी तैयार कर रहे
कुमार व‍िश्‍वास अपनी व्यस्तताओं के कारण चुनाव तैयारी के लिए समय नहीं दे सकते थे। इसल‍िए दीपक बाजपेई को राजस्‍थान में पार्टी का नया प्रभारी न‍ियुक्‍त क‍िया है। दीपक बाजपेई वहां पर अपनी पूरी ज‍िम्‍मेदारी न‍िभा रहे हैं। वह राजस्थान का दौरा भी कर चुके हैं। अब वहां चुनाव लड़ने वाले उम्‍मीदवारों की ल‍िस्‍ट भी तैयार कर रहे हैं। इसके बाद यह सूची पार्टी पॉल‍िट‍िकल अफेयर्स कमेटी यानी क‍ि पार्टी के राजनीतिक मामलों की समिति द्वारा फाइनल की जाएगी।

कुमार व‍िश्‍वास की कव‍िता पार्टी को लेकर कह रही है बहुत कुछ
वहीं पार्टी के इस फैसले के बाद से माना जा रहा है क‍ि आप एक बार फ‍िर कव‍ि कुमार व‍िश्‍वास को पार्टी में क‍िनारे कर रही है। खास बात तो यह है इस फैसले के बाद कुमार व‍िश्‍वास ने एक कव‍िता ट्वीट की...
तुम निकले थे लेने “स्वराज”
सूरज की सुर्ख़ गवाही में,
पर आज स्वयं टिमाटिमा रहे
जुगनू की नौकरशाही में,
सब साथ लड़े,सब उत्सुक थे
तुमको आसन तक लाने में,
कुछ सफल हुए “निर्वीय” तुम्हें
यह राजनीति समझाने में,
इन “आत्मप्रवंचित बौनों” का,
दरबार बना कर क्या पाया?

कव‍िता पार्टी और उनकी स्‍थ‍िति‍ को काफी हद तक बयां कर रही

यह कव‍िता पार्टी और उनकी स्‍थ‍िति‍ को काफी हद तक बयां कर रही हैं। पार्टी सूत्रों की मानें तो कुमार व‍िश्‍वास आम आदमी पार्टी की पॉलिटिकल अफेयर्स कमेटी के सदस्‍य है लेक‍िन प‍िछले काफी समय से उन्‍हें इसकी बैठक में नहीं बुलाया गया है। बतादें क‍ि हाल ही में देश की राजधानी द‍िल्‍ली में हुए राज्यसभा चुनाव के बाद से ही कुमार व‍िश्‍वास पार्टी से साइड लाइन क‍िए जाने को लेकर चर्चा में हैं। पार्टी ने इन चुनावों में कुमार व‍िश्‍वास को ट‍िकट भी नहीं द‍िया था। इसके बाद से कुमार व‍िश्‍वास ने पार्टी प्रमुख और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल समेत पार्टी के कई बड़े नेताओं पर न‍िशाना भी साधा था।  
(एजेंसी इनपुट सह‍ित)
पूर्व PM मनमोहन स‍िंह ने पंजाब यून‍िवर्सि‍टी को अपनी 3,500 किताबें दान में दी, कभी खुद भी यहां से की थी पढाई

National News inextlive from India News Desk