- संदिग्ध मरीज के मिलते ही जिला अस्पताल हो गया अलर्ट

- अभी नहीं आई एलाइजा की रिपोर्ट

BAREILLY:

बरेली में बुखार से मचे हाहाकार के बीच डेंगू ने भी डरा दिया है. मंडे को डिस्ट्रिक्ट हॉस्पिटल में डेंगू का एक संदिग्ध मरीज पाया गया, जिसकी ब्लड रिपोर्ट जांच के लिए लखनऊ भेज दी गई. यह महिला मरीज बीत तीन दिनों से हॉस्पिटल में बुखार का इलाज करा रही थी. बुखार बेकाबू होता देख डॉक्टर्स भी चकराए, इस दौरान उन्हें डेंगू के कुछ सिम्टम्स दिखे तो मरीज को डेंगू वार्ड में एडमिट करा दिया गया. हालांकि, डॉक्टर्स एलाइजा रिपोर्ट मिलने का इंतजार कर रहे हैं.

10 दिनों से हालत बनी है गंभीर

बल्लिया के गहर्रा गांव की 30 वर्षीय गुड्डी को पिछले कई दिनों से बुखार था. लेकिन 10 दिनों से उसकी हालत काफी नाजुक हो गई. उसे काम करना भी मुश्किल हो रहा था. हाथ पैरों में बिल्कुल भी जान नहीं रही, लेकिन उसका पति उसका इलाज गांव के ही डॉक्टर से करा रहा था. जब कहीं से कोई फायदा नहीं हुआ तो गुड्डी का पति वीरपाल उसे सैटरडे को जिला अस्पताल लेकर आया. जिला अस्पताल में उसके चेकअप के बाद मंडे को डॉक्टर्स को उसमें डेंगू के लक्षण होने की संभावना मिली. जिसके बाद उसकी एलइजा टेस्ट के लिए भेज दिया है.

इलाज करने नहीं पहुंचे पांच डॉक्टर

बुखार के फैले प्रकोप को देखते हुए जहां शासन स्तर से अलर्ट घोषित कर दिया गया है. खुद सीएम ऑफिस निगरानी रखे हुए है, तो वहीं एडी हेल्थ के यहां तैनात डॉक्टर्स नाक की लड़ाई में अपने बड़ी कुर्सी का आदेश मानने को तैयार नहीं हैं. चूंकि, एडी हेल्थ के ऑफिस में एक बाल रोग विशेषज्ञ, दो आई सर्जन और दो ईएनटी सर्जन तैनात हैं. चूंकि यह सीनियारिटी में एडी हेल्थ से कम नहीं हैं. लिहाजा, धरती के यह भगवान अपना डॉक्टरी का धर्म भूल गए और डिस्ट्रिक्ट हॉस्पिटल इलाज करने नहीं पहुंचे. जबकि, इस समय बाल रोग विशेषज्ञ की डिस्ट्रिक्ट हॉस्पिटल में सख्त जरूरत है. इस बारे में सीएमएस केएस गुप्ता से बात की गई, तो उन्होंने कहा कि एडी हेल्थ ऑफिस से डॉक्टर्स को आना है. हो सकता है ट्यूजडे से ड्यूटी पर आ जाएं.