नोट--पेज एक के लिए प्रस्तावित

-डेंगू के खिलाफ शुरु हो गई फाइट

-डेंगू के बढ़ते प्रकोप को लेकर गंभीर हुआ स्वास्थ्य विभाग

-तीन माह माह में 29 हजार घरों की हुई जांच

-अब तक 450 घरों में मिल चुका है लार्वा

बनारस में डेंगू मरीजों की संख्या घटने के बजाए बढ़ रही है. यहां हर रोज चार से पांच नए मामले आ रहे है. सरकारी अस्पतालों में बना डेंगू वार्ड अभी भी फुल है. ऐसा तब है जब डेंगू का सीजन खत्म होने वाला है. जाते जाते सता रहे डेंगू के खात्मे के लिए अब स्वास्थ्य विभाग ने बड़ा अभियान चलाने का फैसला लिया है. सीएमओ डॉ. वीबी सिंह ने नगर निगम व मलेरिया विभाग को एक बड़ी टीम बनाकर शहर के हर गली मुहल्ले में फॉगिंग व एंटी लार्वा का छिड़काव करने का आदेश दिया है. उन्होने कहा है शहर के हर वार्ड और ग्रामीण क्षेत्रों के घर-घर में लार्वा की जांच की जाए. जिससे डेंगू मच्छर पनपने न पाए.

तेज होगा अभियान

स्वास्थ्य विभाग व परिवार कल्याण विभाग द्वारा चलाए जा रहे एन्टीलार्वा प फागिंग अभियान अब पहले से ज्यादा प्रभावी और तेज होगा. डेंगू से फाइट करने के लिए जन जागरूकता को लेकर विशेष कार्ययोजना बनायी गयी है. जिसके तहत शहर के सभी 90 वार्ड के हर घर में डेंगू के लार्वा की जांच कराने के साथ उस एरिया में फॉगिंग कराया जाएगा. सीएमओ ने अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा है कि शहरी क्षेत्र की संकरी गलियों में छोटी मशीन से फागिंग का कार्य जारी रखें.

वरुणा पार हालत है गंभीर

पांडेयपुर स्थित डीडीयू हॉस्पिटल का डेंगू वार्ड अभी भी फुल है. यहां अब तक डेंगू के 500 से ज्यादा मरीज आ चुके है. जिसमें 20 फीसदी कंफर्म भी किए जा चुके है. इसमें सबसे ज्यादा मरीज पांडेयपुर, पहडि़या, दौलतपुर, लालपुर आदि क्षेत्र से है. चिकित्सक डेंगू के बढ़ते प्रकोप की सबसे बड़ी वजह जन जागरुकता की कमी बता रहे है. जिसकी वजह से डेंगू का लार्वा तेजी से पनप रहे है. करीब तीन माह तक हुई घरों की जांच में मलेरिया विभाग को 450 घरों में डेंगू का लार्वा मिला है.अधिकारियों का कहना है जिन घरों में लार्वा पनप रहे है उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई कर एक्शन लिया जाएगा.

तीन माह माह में 29 हजार घरों की हुई जांच

डेंगू से बचाव और उसके रोकथाम के लिए जिला मलेरिया विभाग पिछले तीन माह से अभियान चलाया जा रहा है. जिसमें अब तक कुल 28, 963 घरों में डेंगू के लार्वा की जांच की गई थी. इस दौरान एरिया के 450 घरों में लार्वा पाया गया.

क्या है डेंगू के लक्षण

-ठंड लगने के साथ अचानक तेज बुखार हो जाना

-सिर, मांसपेशियों और जोड़ों में दर्द होना

-आंखों के पिछले हिस्से में दर्द होना -बहुत विकनेस फील होना, भूख न लगना, मुंह का स्वाद खराब होना

-गले में हल्का-सा दर्द होना

-चेहरे, गर्दन और छाती पर लाल-गुलाबी रंग के रैशेज होना

ऐसे बरतें सावधानी

-ठंडा पानी न पीएं, मैदा और बासी खाना न खाएं

-खाने में हल्दी, अजवाइन, अदरक, हींग का ज्यादा-से-ज्यादा इस्तेमाल करें.

-इस मौसम में पत्ते वाली सब्जियां, अरबी, फूलभोगी न खाएं.

-हल्का खाना खाएं, जो आसानी से पच सके.

-पूरी नींद लें, खूब पानी पीएं और पानी उबालकर पीएं.

-खूब पानी पीएं, छाछ, नारियल पानी, नीबू पानी आदि पिएं.

कैसे करें बचाव

-फूल बाजू के कपड़े पहने, जिससे शरीर का ज्यादा-से-ज्यादा हिस्सा ढका रहे.

-बच्चों को मलेरिया सीजन में हाफ पैंट व टी-शर्ट न पहनाएं.

-रात को सोते समय मच्छरदानी लगाएं.

-कूलर में एक सप्ताह से ज्यादा का पानी न रखे.

-गमले, टब और छतों पर रखे खराब बर्तन या अन्य चीज में पानी इकट्ठा होने न दे.

-घरों में एसी का पानी जमने न दे.

-घर के आस पास पास साफ-सफाई बनाए रखे.

-------

एक नजर

181

डेंगू की पुष्टि कर चुका है मलेरिया विभाग

157

मरीज डीडीयू हॉस्पिटल से

24

मरीज एसएस हॉस्पिटल बीएचयू

02

लोगों की डेंगू से हो चुकी है मौत

1300

के करीब आ चुके है डेंगू के संदिग्ध मरीज बीते तीन माह में

----------------

वर्जन

आम लोगों का जागरुक होना बहुत जरुरी है. जब तक ये जागरुक नहीं होंगे तब तक डेंगू को डिफिट करना आशान नहीं. विभाग कारवां लेकर घरों तक पहुंचेगा.

शरत चंद्र पांडेय, जिला मलेरिया अधिकारी

डेंगू को कंट्रोल करने के लिए विभाग गंभीर है. नगर निगम स्वास्थ्य व मलेरिया विभाग को को अभियान तेज करने का निर्देश दे दिया गया है.

डॉ. वीबी सिंह, सीएमओ