क्त्रन्हृष्ट॥ढ्ढ:सिटी में डेंगू व चिकनगुनिया की दहशत सिर चढ़कर बोल रही है. निगम और स्वास्थ्य विभाग के प्रयास भी नाकाफी साबित हो रहे हैं. हर दिन कैंप और सफाई अभियान व्यापक पैमाने पर चलाया जा रहा है फिर भी डेंगू और चिकनगुनिया का रोग थमने का नाम नहीं ले रहा है. अब तक सिटी में चिकनगुनिया के 518 मरीज और डेंगू के 46 मरीजों की पहचान की जा चुकी है. हिन्दपीढ़ी से शुरू हुआ चिकनगुनिया और डेंगू का कहर अब तक सिटी के कई मोहल्लों मे फैल चुका है. अस्पतालों में मरीजों की संख्या में तेजी से इजाफा हो रहा है और इलाज के प्रयासों के बाद भी मरीजों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है.

तीन स्थानों पर लगाया गया कैंप

बुधवार को हरमू नया टोला, हरमू हाउसिंग कॉलोनी और किशोरगंज में हेल्थ मेडिकल चेकअप कैंप लगाया गया, जिसमें 121 लोगों की जांच की गई तथा जांच के दौरान 24 के ब्लड सैंपल कलेक्ट किए गए हैं. वार्ड 26 में कुल 66 घरों की जंाच की गई, जिसमें 17 घरों में डेंगू मच्छर का लार्वा पाया गया, वहीं कुल 274 कंटेनरों की जांच में 30 में चिकनगुनिया के जर्म पाए गए हैं. एनसीडीसी, भारत सरकार को एनालिसिस रिपोर्ट भेजी जाएगी.

मुख्य बाजार में पनप रहे मच्छर

राजधानी के आर्थिक संपन्नता का प्रतीक कहे जाने वाले अपर बाजार में भी मच्छरों का प्रकोप फैलता जा रहा है. जहां-तहां गंदगी का अंबार लगा हुआ है और नगर निगम की ओर से सफाई अभियान को लेकर शिथिलता बरती जा रही है. आप तस्वीरों में साफ देख सकते हैं कि अपर बाजार के कई ऐसे इलाके हैं, जहां हर दिन कचरा जमा होता जा रहा है, लेकिन उसका नियमित उठाव नहीं हो पा रहा है.