-पूर्व एसपी भी हटे, एसओ व विवेचक निलंबित

रुष्टयहृह्रङ्ख : देवरिया के बालिका संरक्षण गृह कांड में हाईकोर्ट की फटकार के बाद राज्य सकरार ने लापरवाह पुलिस अधिकारियों व कर्मियों के खिलाफ कड़ा रुख अपनाया है. देवरिया के एसपी रोहन पी कनय व पूर्व एसपी राकेश शंकर (वर्तमान में डीआइजी बस्ती रेंज) को हटाकर डीजीपी मुख्यालय से संबद्ध किया गया है. देवरिया के सीओ सदर दयाराम सिंह गौर को भी हटा दिया गया है, इन्हें 26वीं वाहिनी पीएसी गोरखपुर भेजा गया है. तीनों अधिकारियों के खिलाफ विभागीय जांच शुरू कर दी गई है. इसके अलावा एसओ व विवेचक को निलंबित किया गया है.

पुलिस की शिथिलता सामने आई

देवरिया में मां विंध्यवासिनी महिला प्रशिक्षण एवं समाज सेवा संस्थान द्वारा संचालित बालिका संरक्षण गृह में अवैध रूप से बालिकाओं को रखने, उनका शारीरिक व मानसिक शोषण करने के मामले में पुलिस की भी शिथिलता सामने आई है. सरकार ने डीएम देवरिया के बाद यहां के एसपी रोहन पी कनय को भी हटा दिया है. एडीजी गोरखपुर जोन दावा शेरपा की जांच रिपोर्ट आने के बाद सरकार ने यह कार्रवाई की है. डीआइजी बस्ती रेंज राकेश शंकर 24 सितंबर 2017 से 24 मार्च 2018 तक देवरिया के एसपी थे. उनके कार्यकाल के दौरान भी बालिका संरक्षण गृह के खिलाफ पुलिस की लापरवाही उजागर हुई है. साथ ही 31 जुलाई को देवरिया के जिला प्रोबेशन अधिकारी की ओर से दर्ज कराये गए मुकदमे में लापरवाही बरतने वाले कोतवाल वीके सिंह गौर व विवेचक चौकी प्रभारी रेल जटाशंकर सिंह को निलंबित कर विभागीय जांच के आदेश दिए गए हैं.

------------------

तीन और आइपीएस अफसरों का तबादला

स्वतंत्रता दिवस के दिन तीन और आइपीएस अफसरों के तबादले कर दिए गए.

नाम - वर्तमान तैनाती - नवीन तैनाती

- आशुतोष कुमार - डीआइजी एसीओ - डीआइजी बस्ती रेंज.

- एन कोलांची - एसपी महोबा - एसपी देवरिया.

- कुंवर अनुपम सिंह - एसपी एटीएस लखनऊ - एसपी महोबा.

---