-प्रेसवर्ता की खबर पर पुलिस ने छावनी में तब्दील किया कमला नगर का होटल

-पुलिस लाइन में हिरासत में रखने के बाद ठाकुर को मथुरा बॉर्डर पर छोड़ा

आगरा. खंदौली के गांव सैमरा में जनसभा की अनुमति नहीं मिलने के बाद सभा करने पर कथावाचक देवकी नंदन ठाकुर को पुलिस ने हिरासत में ले किया. हंगामे की स्थिति देख उन्हें पुलिस लाइन में करीब ढाई घंटे रखा गया. शाम को समर्थकों के साथ उन्हें मथुरा बॉर्डर के पास छोड़ दिया गया.

हाल ही में केन्द्र सरकार ने एससी/एसटी एक्ट को लेकर संशोधन पारित किया है. इसके विरोध में छह सितंबर को भारत बंद के बाद खंदौली में महापंचायत की गई थी. अखंड भारत एकता मिशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष देवकी नंदन ठाकुर ने मंगलवार को खंदौली में जनसभा की अनुमति मांगी थी. प्रशासन ने इससे इंकार कर दिया. वहीं सभास्थल पर भारी संख्या में फोर्स तैनात कर दिया.

ठाकुर ने बताया लोकतंत्र की हत्या

सभा से पूर्व ठाकुर ने अपनी गिरफ्तारी को लोकतंत्र की हत्या बताया. देवकी नंदन ने अपनी बात रखने को दोपहर दो बजे कमला नगर स्थित रेस्टोरेंट टेंपटेशन में प्रेसवार्ता बुलाई. ठाकुर का कहना था कि लोकतंत्र में सभी को अपनी बात रखने का अधिकार है. लेकिन पुलिस प्रशासन द्वारा स्वतंत्रता पर अंकुश लगाया जा रहा है. जानकारी होने पर सीओ हरीपर्वत अभिषेक मय फोर्स के साथ वहां पहुंच गए. उन्होंने वहां देवकी नंदन को हिरासत में ले लिया. इस पर समर्थकों में आक्रोश फैल गया. हंगामे की आशंका पर पुलिस-पीएसी की कई गाडि़यां वहां पहुंच गई. उन्हें देवकी नंदन को करीब एक घंटे तक रेस्टोरेंट में ही रखा.

हंगामा देख ले गए पुलिस लाइन

कमला नगर के होटल में स्थिति को बिगड़ता देख पुलिस अधिकारी ठाकुर को पुलिस लाइन ले गए. जहां रास्ते में एक दर्जन से अधिक समर्थक ठाकुर के समर्थन में नारेबाजी कर उनके साथ वाहन में सवार हो गए. कई घंटे पुलिस लाइन में रखने के बाद पुलिस ने उन्हें और समर्थकों को मथुरा बॉर्डर के पास छोड़ दिया गया.

खंदौली के गांव में सैमरा गांव में सभा के लिए पहुंचे देवकी नंदन ठाकुर को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया था. वह कमला नगर के रेस्टोरेंट में सभा करने जा रहे थे. पूछताछ के बाद उन्हें मथुरा से पहले छोड़ दिया गया.

अमित पाठक, एसएसपी