- वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग कर मातहतों के कसे पेंच

lucknow@inext.co.in
LUCKNOW : प्रदेश में हो रही ताबड़तोड़ सनसनीखेज वारदातों पर सीएम योगी आदित्यनाथ की नाराजगी का असर दिखने लगा है. बुधवार को डीजीपी ओपी सिंह वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये मातहतों से मुखातिब हुए और अपहरण, लूट, हत्या, डकैती, रेप और व्यापारियों से अपराध की संगीन घटनाओं की समीक्षा की. इस दौरान डीजीपी ने मातहतों को अपराधियों पर अंकुश लगाने के लिये निर्देश भी दिये.

शातिर अपराधियों की हिस्ट्रीशीट खोलने का निर्देश
डीजीपी ओपी सिंह ने बुधवार को यूपी 100 मुख्यालय से प्रदेश के सभी एडीजी, आईजी, डीआईजी, एसएसपी व एसपी के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग की. जिसमें उन्होंने प्रदेश के सभी जिलों में हाल ही में घटित सनसनीखेज वारदातों की समीक्षा की. डीजीपी ने मातहतों को निर्देश दिया कि वे संगीन अपराधों की पैरवी की खुद समीक्षा करें. सपंत्ति संबंधी अपराधों में लिप्त अपराधी का डोजियर बनाया जाये और अधिकतम बरामदगी करें.





जमानत पर छूटे अपराधियों का सत्यापन सुनिश्चित किया जाये
शातिर अपराधियों की हिस्ट्रीशीट खोली जाये और जमानत पर छूटे अपराधियों का सत्यापन सुनिश्चित किया जाये. जिन अपराधियों पर इनाम घोषित हुआ है उनके विरुद्ध कार्यवाही की जाये. पुलिस अभिरक्षा से भागे अपराधियों के खिलाफ भी कार्रवाई की जाये. पुलिस से संघर्ष के मामलों में प्रभावी कार्यवाही की जाये, ताकि ऐसा करने वालों का मनोबल न बढ़ सके. डीजीपी ने मातहतों से सनसनीखेज घटनाओं में शामिल अभ्यिुक्तों के विरुद्ध एनएसए व गैंगस्टर की कार्यवाही करने को कहा है. जिले के टॉप 15 अपराधियों का चयन आईजी/डीआईजी रेंज के अनुमोदन से किया जाये साथ ही थाने के टॉप 10 क्रिमिनल्स का का चयन एसएसपी/एसपी के अनुमोदन के बाद कराया जाये.