-विरोध करने पर दूसरे पक्ष ने की मारपीट, एफआईआर दर्ज

BAREILLY: कैंट के मसीतगंज गौटिया मोहनपुर में धार्मिक स्थल पर कूड़ा डालने को लेकर विवाद हो गया. एक महिला ने जब कूड़ा डालने का विरोध किया, तो दूसरे पक्ष के करीब तीन दर्जन लोगों ने महिला व उसके परिजनों पर हमला बोल दिया. यही नहीं वहां रखा सरकारी कूड़ेदान भी तोड़ दिया. मामले की शिकायत पुलिस से की लेकिन 4 दिन बाद एफआईआर दर्ज की गई है. एफआईआर में 10 नामजद और 20-25 अज्ञात लोगों के खिलाफ मारपीट, बलवा व एससी एसटी एक्ट की धाराओं में एफआईआर दर्ज की गई है.

महिलाएं कर रही थ्ाीं सफाई

मुन्नी देवी पत्‍‌नी झनकारी लाल, मसीतगंज गौटिया की रहने वाली है. मुन्नी के मुताबिक वह 8 सितंबर को दोपहर ढाई बजे मोहल्ले की रहने वाली गीता और प्रेमवती के साथ मिलकर धार्मिक स्थल की सफाई कर रही थीं. इसी दौरान मोहल्ले का अतीक धार्मिक स्थल पर कूड़ा डालने लगा. उन्होंने कूड़ा डालने का विरोध करते हुए पास में रखे सरकारी कूड़ेदान में कूड़ा डालने के लिए कहा. इस बात से नाराज अतीक ने अपने साथियों तौफीक, रफीक, पप्पू, अलीसेन, नफीस, गौहर आलम, रियाज, दिलशाद, हसीन मियां समेत 20-25 अज्ञात लोग लाठी-डंडे लेकर आ गए और जाति सूचक शब्दों का इस्तेमाल करते हुए गाली-गलौच करने लगे. आरोपी बोले कि वह कूड़ेदान में नहीं बल्कि धार्मिक स्थल पर ही कूड़ा डालेंगे. जब इसका विरोध किया तो लाठी-डंडों से मारपीट की. वह बचने के लिए भगवान दास के घर में गई तो घर में घुसकर भी मारपीट की. जिसके बाद मोहल्ले के लोग इकट्ठा हो गए तो आरोपी जान से मारने की धमकी देते हुए भाग गए. पुलिस को सूचना दी गई लेकिन उस वक्त पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की.