- भेलूपुर के बृज इंक्लेव में किराये के मकान में रहने वाली काशी विद्यापीठ की प्रोफेसर के बंद पड़े घर में चोरों ने 'धूम स्टाइल' में की चोरी

- होली पर अपने पैतृक गांव गई हुई थी प्रोफेसर, जाते-जाते चोरों न ने दीवार पर लिखा 'फिर आऊंगा धूम-4 कमिंग सून'

varanasi@inext.co.in

VARANASI: भले ही फिल्मों के दीवानों ने अब तक बॉलीवुड मूवी 'धूम' के तीन पार्ट ही देखे हों लेकिन इस मूवी का पार्ट फोर रियल लाइफ में लॉन्च हो चुका है, वो भी अपने शहर में. क्यों चौक पड़े ना. दरअसल भेलूपुर के बृज इंक्लेव में बंद पड़े एक मकान से चोरों ने 'धूम स्टाइल' में हाथ साफ किया. चोर पहले आसानी से घर में दाखिल हुए फिर चोरों ने सब माल समेटने के बाद एक टीवी को छोड़ दिया. चोरों ने सिर्फ टीवी छोड़ी ही नहीं बल्कि कुछ फिल्मी अंदाज में घर की दीवार पर लिख गए, 'तुम्हारा टीवी छोड़कर जा रहा हूं. वापस आऊंगा. धूम-ब् कमिंग सून.'

पुलिस भी हैरान

चोरों के इस फिल्मी अंदाज से पुलिस भी हैरान है. बताते हैं कि भेलूपुर के बृज इंक्लेव कॉलोनी में वीके पाण्डेय के मकान के सेकेंड फ्लोर पर महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ की प्रो. मंजुला चतुर्वेदी रहती हैं. मूल रूप से आगरा की रहने वाली मंजुला अपने फ्लैट में ताला लगाकर होली के मौके पर क्भ् मार्च की दोपहर आगरा निकल गई थीं. इस बीच चोरों ने अपना काम कर दिया. चोरी की सूचना मंजुला को तब हुई जब वो मंगलवार को लौटकर घर आई. घर आने के बाद अपने फ्लैट के इंट्रेस डोर का ताला टूटा हुआ देखा तो वो भागती हुई घर के अंदर पहुंची. अंदर का नजारा देखकर सन्न रह गई.

सब कुछ समेट ले गए चोर

घर के अंदर के सारा सामान बिखरा हुआ पड़ा था. आलमारियां टूटी हुई थीं. मंजुला ने ये देखकर पुलिस को सूचना दी. पुलिस ने मौके पर पहुंचकर पड़ताल शुरू की तो पुलिस को एक ऐसा क्लू मिला जिसे देखकर पुलिस हैरान रह गई. मंजुला के घर में लगा एलईडी टीवी चादर में बंधा रखा था और वहीं पास में दीवार पर लगे बोर्ड पर लिखा था, 'तुम्हारा टीवी छोड़कर जा रहा हूं. वापस आऊंगा. धूम-ब् कमिंग सून..' ये मैसेज पढ़ते ही पुलिस ने भेलूपुर इलाके में फिल्मी स्टाइल में चोरी करने वाले चोरों की तलाश शुरू कर दी है. भुक्तभोगी के मुताबिक चोरों ने उनके घर से दो लैपटॉप, तीन लाख रुपये मूल्य का डायमंड सेट, दो सोने की चेन, दो सोने के हार, फैंसी ज्वेलरी, तीन मोबाइल हैंडसेट, तीन सोने की अंगूठी, क्00 डॉलर, क्00 यूरो, क्भ्00 रुपये की इंडियन करेंसी और क्000 रुपये के सिक्के उड़ाये हैं.

क्यों नहीं दी हमें सूचना

चोरी की इस वारदात के बाद पुलिस की वर्किंग स्टाइल पर एक बार फिर से सवाल उठने लगा है. इसके पीछे वजह है पुलिस का मौके पर पहुंच भुक्तभोगी से ही टेढे़-मेढ़े सवाल करना. पुलिस ने मौके पर पहुंचने के बाद प्रो. मंजुला से पूछा कि आप कब बाहर गई थीं और जब जा रही थी तो पुलिस को इंन्फॉर्म क्यों नहीं किया? यहां तक कि पुलिस ने इतनी बड़ी चोरी के बाद भी मौके पर फिंगर प्रिंट एक्सपर्ट और डॉग स्क्वॉड को मौके पर बुलाने की जरूरत नहीं समझी.