बिजनौर के बदमाश
जुलाई में राजस्थान से 85 लाख कीमत के हीरे लेकर आ रहे करोल बाग निवासी कारोबारी मनोज जैन से सराय रोहिला में अटैची चोरी कर ली गई थी। अटैची में 50 लाख कीमत के तीन हीरों के हार और 35 लाख कीमत के अन्य हीरे थे। दिल्ली पुलिस ने मामले की पड़ताल की और बिजनौर के बदमाशों को पकड़ लिया।

पूछताछ में खुलासा
बदमाश हनीफ को हिरासत में लेकर पूछताछ की गई, उसने बताया कि 50 लाख कीमत के तीन हीरों के हार बजाजा बाजार में रहने वाले सर्राफ शरीफ उर्फ अईमा की दुकान पर छह लाख रुपये में गिरवी रख दिए थे। शुक्रवार को पुलिस की टीम सादे कपड़ों में पहुंची और एक हीरे के हार को सर्राफ से खरीद कर ले गई, जिसकी पहचान कारोबारी मनोज जैन से कराई गई।

पुलिस का विरोध
पहचान होने के बाद दिल्ली पुलिस की टीम आरोपी हनीफ को साथ लेकर मेरठ पहुंची। पुलिस ने सर्राफ शरीफ को कब्जे में ले लिया, जिसे लेकर व्यापारी गुस्से में आ गए। उन्होंने बाजार बंद करते हुए दिल्ली पुलिस को बंधक बनाकर हमला बोल दिया। सीओ मनीषा सिंह पुलिस फोर्स और पीएसी के साथ मौके पर पहुंचीं। दिल्ली पुलिस और सर्राफ को कब्जे में लेकर कोतवाली लाया गया, जहां व्यापारियों ने कोतवाली को घेर कर घंटों हंगामा किया। चेतावनी दी गई कि दिल्ली पुलिस के साथ सर्राफ को नहीं जाने देंगे। सर्राफ ने दिल्ली पुलिस को बताया कि उन्हें गिरवी रखी हुई छह लाख की रकम देकर सभी तीनों हीरे के हार ले जाएं। व्यापारियों के गुस्से को देख पुलिस ने सख्ती बरती और सर्राफ को दिल्ली पुलिस लेकर रवाना हो गई।  


"दिल्ली में 85 लाख के हीरे चोरी की बड़ी वारदात में बिजनौर के बदमाशों ने अंजाम दिया था, जबकि तीन हीरो के हार को मेरठ में गिरवी रखा गया था। हार गिरवी रखने वाले सर्राफ को सराय रोहिला दिल्ली की पुलिस ले गई है." 
मनीषा सिंह, सीओ कोतवाली