-सभी थानों को 250-250 डिजिटल वॉलंटियर्स बनाने का है टारगेट

-अभी तक एक चौथाई थानों ने ही भेजी है रिपोर्ट, 7 सितंबर लास्ट डेट

BAREILLY: सोशल मीडिया पर अफवाहों को रोकने, क्राइम और लॉ एंड आर्डर मेंटेन करने के लिए डीजीपी पब्लिक की डिजिटल फौज तैयार कर रहे हैं. इसके लिए सभी जिलों में डिजिटल वॉलिंटियर्स बनाए जाने हैं, जिन्हें व्हाट्सएप व अन्य सोशल मीडिया प्लेटफार्म से जोड़ा जाएगा. इनमें सोशल वर्कर, रिटायर्ड सर्विसमेन, एरिया के सभ्रांत लोगों को जोड़ना था, लेकिन प्रदेश में सबसे संवेदनशील शहर बरेली में अभी इसकी रफ्तार काफी धीमी है. डीजीपी का आदेश जारी हुए दो महीने से अधिक हो गया है, लेकिन बरेली में अभी तक एक चौथाई थानों ने ही यह काम पूरा किया है. जबकि 7 सितंबर तक लखनऊ रिपोर्ट भेजी जानी है.

विवादों के बाद भी नहीं चेते

डिजिटल वॉलंटियर्स की भूमिका बरेली में काफी अहम है, क्योंकि यह प्रदेश में सबसे ज्यादा संवदेनशील है. यहां कोई भी त्योहार शांतिपूर्ण निपटाना पुलिस के लिए बड़ी चुनौती है. सीएम और डीजीपी भी जिले पर सीधी नजर रखते हैं. बरेली में अक्सर विवाद होते रहते हैं. सावन में खजुरिया, उमरिया, देवरनियां, अलीगंज समेत कई थाना एरिया में कांवड़ रूट को लेकर विवाद हुआ था. यही नहीं जन्माष्टमी पर भी देवरनियां, कैंट, फतेहगंज पूर्वी में भी जुलूस निकालने को लेकर विरोध हो चुका है, इसके वाबजूद यहां डिजिटल वॉलंटियर्स तैयार नहीं किए गए.

इन लोगों को करना है शामिल

जून में ही इस संबंध में सभी थानों को निर्देश दिए गए थे कि वह अपने एरिया के ऐसे लोगों के बारे में पता करें, जो सोशल एक्टिविटी में शामिल रहते हैं. इसके अलावा ऐसे लोग जो किसी भी सर्विस से रिटायर, पत्रकार, टीचर, प्रिंसिपल, डॉक्टर्स, सिविल डिफेंस, बैंककर्मी या अन्य विभाग से जुड़े जो समाज के लिए अच्छा काम करना चाहते हैं. इन सभी के बारे में रिकार्ड इकट्ठा किया जाए और फिर उनका बैकग्राउंड भी चेक कर ि1लया जाए.

अभी तक 50-50 ही लाेग जोड़े

डिजिटल वॉलिंटियर्स को लेकर थानों की पुलिस ने ज्यादा इंट्रेस्ट नहीं दिखाया. कुछ थानों ने ग्रुप तो बना लिए लेकिन उनमें उन्हीं पुराने लोगों को जोड़ लिया, जो थानों में अक्सर देखे जाते थे, नए लोगों को शामिल नहीं किया गया. अधिकतर थानों में 50-50 लोगों को शामिल कर दिया गया है. यही नहीं कुछ थाना प्रभारियों ने जिम्मेदारी सिर्फ चौकी इंचार्ज के ऊपर छोड़ दी और उन्होंने अपना ग्रुप बना लिया.

फार्म के साथ भेजनी है रिपोर्ट

एसएसपी ऑफिस से एक बार फिर 20 अगस्त को सभी थानों में आदेश जारी किया गया कि सभी थानों में ग्रुप बनाकर 250 सभ्रांत लोगों को जोड़ा जाए. इनसे फार्म भी भरवाया जाए और वह कौन से प्लेटफार्म से जुड़ना चाहते हैं. व्हाट्सएप से जुड़ने पर उन्हें अपना मोबाइल नंबर जरूर देना होगा. इसके अलावा वह कौन सी सोशल मीडिया मतलब फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम या अन्य इस्तेमाल करते हैं तो उसकी आईडी भी बताएं और प्रोफाइल फोटो भी जरूर लगाएं. डिजिटल वॉलिंटियर्स का फार्म यूपी पुलिस की वेबसाइट पर भी जाकर भर सकते हैं.

----------------

29 थाने बरेली में

10 थाने शहर में

250 डीवी जोड़ने एक थाने को

07 सितंबर तक डीजीपी को जाएगी रिपोर्ट

05 सितंबर तक सभी थानों से मांगी रिपोर्ट

सभी थानों ने ग्रुप बनाए हैं लेकिन उनमें वॉलिंटियर्स की संख्या कम थी. सभी थानों को 250 वॉलंटियर्स जोड़ने के आदेश दिए हैं. 5 सितंबर तक सभी थानों से रिपोर्ट मांगी गई है.

मुनिराज जी, एसएसपी