हिंसा में शामिल वकीलों की पहचान, कार्रवाई के लिए बनी कमेटी

पांच वकीलों को मेरठ बार एसोसिएशन जारी करेगा नोटिस

मेरठ बार एसोसिएशन के सदस्य अधिवक्ता अनिल धामा ने कहा दोषियों तत्काल बर्खास्त हों

Meerut. कचहरी में सोमवार को हुई आगजनी व गोलीबारी में शामिल वकीलों की सदस्यता रद करने के मसले पर मेरठ बार एसोसिएशन के अध्यक्ष और महामंत्री के बीच खासा विवाद हो गया. इस मुद्दे पर बुलाई गई वकीलों की बैठक में हंगामा भी हुआ.

नहीं हो सकते बर्खास्त

अध्यक्ष रोहिताश्व अग्रवाल ने कहा कि मेरठ बार एसोसिएशन का अपना संविधान है. संविधान के मुताबिक किसी भी अधिवक्ता की सदस्यता बिना जांच कमेटी की रिपोर्ट के रद नहीं की जा सकती. उन्होंने कहा कि नौ अधिवक्ताओं की जांच कमेटी का गठन किया गया है. कमेटी सभी पांच आरोपी वकीलों को नोटिस जारी करेगी. उनकी रिपोर्ट के आधार पर अधिवक्ताओं पर कार्रवाई की जाएगी.

अध्यक्ष का घेराव

कचहरी में आगजनी को लेकर मेरठ बार एसोसिएशन ने पंडित नानक चंद सभागार में एक सभा का आयोजन किया था. जिसमें 1200 सदस्यों ने हिस्सा लिया. महामंत्री प्रबोध शर्मा समेत अनिल जंगाला, अनिल धामा ने मांग की कि जिन अधिवक्ताओं ने कचहरी में आगजनी, गोलीबारी की, उनकी पहचान हो गई है. उनके खिलाफ सिविल लाइन थाने में मुकदमा भी दर्ज करा दिया गया है. उनकी मीडिया में फोटो भी प्रकाशित है. उनकी मेरठ बार एसोसिएशन की सदस्यता तुरंत खत्म की जाए. इसी के चलते कई अधिवक्ताओं ने अध्यक्ष का घेराव कर दिया. घेराव के दौरान अध्यक्ष व महामंत्री आमने-सामने आ गए.

कचहरी में रही हड़ताल

अधिकतर अधिवक्ता न्यायिक कार्यो से विरत रहे. वकीलों की आम सभा सुबह से लेकर देर शाम तक चलती रही.

कचहरी में आगजनी व गोलीबारी करने वाले अधिवक्ताओं की मेरठ बार एसोसिएशन की सदस्यता तुरंत रद की जानी चाहिए. यह सभी के लिए एक सबक होगा.

हर्ष चौधरी, सदस्य, मेरठ बार एसोसिएशन

कचहरी में आगजनी व तोड़फोड़ करने वालों की पहचान हो गई है. इनको मेरठ बार एसोसिएशन में रहने का कोई हक नहीं है.

हरिओम शर्मा, वरिष्ठ सदस्य, मेरठ बार एसोसिएशन

हंगामा करने वाले अधिवक्ता की पहचान हो गई है. अध्यक्ष को तुंरत ही उनकी मेरठ बार एसोसिएशन की सदस्यता रद कर देनी चाहिए.

देवेंद्र धामा, सदस्य, मेरठ बार एसोसिएशन