द्भड्डद्वह्यद्धद्गस्त्रश्चह्वह्म : जिलास्तरीय यूनिफाइड कमांड की बैठक गुरुवार को उपायुक्त अमित कुमार की अध्यक्षता में समाहरणालय में हुई. बैठक 10 बिंदुओं पर केंद्रित थी. तय हुआ कि हर महीने जिलास्तरीय यूनिफाइड कमांड की बैठक कर उग्रवाद प्रभावित क्षेत्रों में विकास की कार्रवाई तथा चलाए जा रहे अभियान की चर्चा की जाएगी.अति उग्रवाद प्रभावित क्षेत्रों में जो असैनिक पदाधिकारी पदास्थापित हैं, वे अपने क्षेत्रों में मौजूद रहकर कार्य करेंगे. कार्यरत पदाधिकारी के लिए अतिरिक्त प्रोत्साहन भत्ता दिए जाने पर भी चर्चा की गई.

इंफ्रास्ट्रक्चर मजबूत होगा

अति उग्रवाद प्रभावित क्षेत्रों में सुरक्षा बलों के जितने भी फॉरवर्ड कैम्प बने हैं, उन्हे इट्रिग्रेटेड डेवलपमेंट सेंटर के रूप में परिवर्तित करने, इसके लिए जिला स्तर पर आधारभूत संरचना का निर्माण करने एवं हर कैम्प में एक छोटा स्वास्थ्य केंद्र खोलने पर सहमति बनी. ताकि सुदूर क्षेत्रों में रहने वाले ग्रामीणों को चिकित्सा सुविधा मुहैया कराई जा सके.

अधिसूचित होंगे फारेस्ट रेंज

जितने भी फायरिंग रेंज उपलब्ध हैं, उन्हें अधिसूचित करना, बार्डर एरिया डेवलपमेंट प्लान के संबंध में कार्रवाई करने और उग्रवादियों के विरूद्ध पीएसवाई ओपीएस की कार्रवाई निरंतर जारी रखने पर विस्तार से चर्चा की गई. बैठक में एसएसपी, एसडीएम धालभूम, एडीसी, एडीएम लॉ एंड आर्डर, कमांडेंट सीआरपीएफ के साथ अन्य पदाधिकारी उपस्थित थे.

खोले जाएंगे कई नए स्कूल

अति उग्रवाद प्रभावित क्षेत्रों में और अधिक स्कूल और अस्पताल खोलने के साथ ही नक्सली हिंसा के शिकार परिवारों को अविलंब मुआवजे की देय राशि का भुगतान करने, प्रत्यर्पण नीति के तहत आत्मसमर्पण करने वाले नक्सलियों को सभी सुविधा उपलब्ध कराने पर चर्चा की गई.