डिस्ट्रिक्ट हॉस्पिटल एडमिनिस्ट्रेशन नहीं देता है आधार अनिवार्यता की जानकारी

- आधार लेकर नहीं पहुंचने वाले मरीजों को होना पड़ता है वापस

>BAREILLY :

डिस्ट्रिक्ट हॉस्पिटल में जांच कराने जा रहे मरीज और उनके तीमारदार आधार अनिवार्यता की आफत से दो-चार हो रहे हैं. बिना आधार के पैथोलॉजी में पर्चा ही नहीं लिया जा रहा है. ऐसे में, ज्यादातर मरीजों को बिना टेस्ट कराए घर वापस जाना पड़ रहा है. या फिर दूर गांव जाने और आने की जहमत से बचने के लिए मरीज प्राइवेट पैथोलॉजी में जांच करा रहे हैं, जहां उन्हें फ्री में होने वाली जांच के लिए मोटा पैसा खर्च करना पड़ रहा है.

नहीं मिल रही कोई प्री इनफॉर्मेशन

आधार की अनिवार्यता की बात तो सही है, लेकिन इस बारे में मरीजों को डिस्ट्रिक्ट हॉस्पिटल एडमिनिस्ट्रेशन सूचित नहीं कर रहा है. न ही डॉक्टर मरीजों को जांच लिखते वक्त बताते हैं कि आधार कार्ड देना होगा.

एक रुपया का पर्चा, दो रुपए की फाेटोकॉपी

आधार के अलावा पर्चा की फोटोकॉपी भी मरीजों के लिए टेंशन का सबब बन गई है. हॉस्पिटल में पर्चा की फोटोकॉपी का नियम महंगा पड़ रहा है. मरीज एक रुपए का पर्चा बनवाते हैं, तो एक से दो रुपए फोटोकॉपी में खर्च हो जाते हैं.

आधार की क्यों पड़ी जरूरत

डिस्ट्रिक्ट हॉस्पिटल में अधिकतर जांच फ्री होने के चलते प्राइवेट पैथोलॉजी सेंटर संचालक भी सांठ-गांठ कर मुफ्त में जांच का फायदा उठा रहे थे. सरकार ने इस पर लगाम लगाने के लिए आधार कार्ड की बाध्यता तय कर दी. इससे धांधलेबाजी तो रुक गई.

केस:1

सुभाषनगर निवासी प्रशांत ने बताया कि वह पत्नी पूजा को दवा दिलाने के लिए आए थे. डॉक्टर ने थायरायड की जांच लिख दी. जब वह जांच कराने के लिए पहुंचे तो उनसे आधार कार्ड मांगा गया. आधार कार्ड नहीं होने पर उन्होंने अपने फोन में पहले सेव आधार कार्ड की पि्रंट निकलवाई और रजिस्ट्रेशन पर्चा की फोटो कॉपी कराने के बाद डिस्ट्रिक्ट के पैथोलॉजी सेंटर पर जमा किया. जिसके बाद ही सेंटर पर जांच हो सकी.

केस:2

नवाबगंज से डिस्ट्रिक्ट हॉस्पिटल दवा लेने पहुंचे चन्द्र पाल ने बताया कि जोड़ों में दर्द था. तो डॉक्टर ने उन्हें भी थायरायड की जांच लिखी थी. वह जांच कराने पहुंचे तो बताया कि पर्चा की फोटो कॉपी और आधार कार्ड लेकर आओ. चन्द्रपाल ने बताया कि उनका आधार कार्ड तो घर पर है. जिसके कारण वापस जा रहा हूं. चन्द्रपाल ने बताया कि वह दवा लेने आए तो आधार कार्ड नहीं मांगा अब जांच में मांग लिया.

केस:3

फरीदपुर के मोहल्ला परा निवासी अनूप ट्यूजडे को डिस्ट्रिक्ट हॉस्पिटल जांच के लिए पहुंचे थे. उन्होंने बताया कि डॉक्टर ने उन्हें पर्चा पर जांच के लिए लिखा. वह पर्चा लेकर पैथोलॉजी पर गए वहां पर उससे आधार मांग लिया. लेकिन उसके पास आधार नहीं था. जिससे उसने डॉक्टर से जांच करने को कहा लेकिन उसकी जांच नहीं हो सकी. जिससे वह भी मायूस होकर वापस लौट गया.

पैथोलॉजी लैब पर आदेश आने के बाद ही आधार अनिवार्य किया गया है. इससे फर्जीवाड़ा नहीं हो सकेगा. मरीजों को इससे कोई प्रॉब्लम नहीं होने दी जा रही है.

केएस गुप्ता, सीएमएस, डिस्ट्रिक्ट हॉस्पिटल