कई बड़े शोध हुए
अक्‍सर देखने में आता है कि जब एक साथ कई लोग टीवी देख रहे होते हैं या फिर एक साथ बैठे होते हैं। उस समय अगर किसी एक ने जम्‍हाई ली तो धीरे-धीरे सभी यही प्रक्रिया अपनाने लगते हैं। हर किसी के मुंह काफी बड़े-बड़े से खुलने लगते हैं। लोग बोरिंग सा या फिर थका हुआ महसूस करने लगते हैं। ऐसे में सबसे पहले तो यह जान लें कि जम्‍हाई कोई बीमारी नहीं है। यह स्वाभाविक और सामान्य प्रक्रिया है लेकिन जम्‍हाई को एक संक्रमण के रूप में लिया जाता है। हालांकि इस पर अब तक कई बड़े शोध हो चुके हैं लेकिन इसके सफल परिणाम नहीं मिले हैं।

जानें क्‍यों,किसी एक के लेने पर दूसरा व्‍यक्‍ित भी लेने लगता है जम्‍हाई...

ठंडा रखने के लिए
जम्‍हाई के संक्रमण को लेकर शोधकर्ताओं का मानना है कि आप जितना किसी से भावनात्मक, आनुवंशिक या फिर शारीरिक रूप से करीब होते हो उतना ही इसका असर बढता है। इसीलिए अक्‍सर करीब बैठे लोग इसकी चपेट में आ जाते हैं। इसके अलावा जम्‍हाई आने के पीछे शोधकर्ताओं का कहना है कि इसका संबंध वैगस नर्व से है। जो हार्ट डिसीज से जुड़ी होता है। वहीं कुछ लोग इसे दिमाग से जोड़ते हैं। दिमाग अपनी वॉल्स को ठंडा रखने और ऑक्सीजन पंप करने के लिए जम्हाई के लक्षण दिखाता है। इसके अलावा यह भी कहा जाता है कि जम्हाई की वजह बहुत अधिक बोरियत महसूस होना भी है।

जानें क्‍यों,किसी एक के लेने पर दूसरा व्‍यक्‍ित भी लेने लगता है जम्‍हाई...

ऑक्सीजन की कमी

वहीं जम्‍हाई को लेकर एक कारण और भी है। यह शरीर में ऑक्सीजन की कमी की भरपाई के लिए आती है। जब फेफड़ों को अगर पंप करने के लिए पर्याप्त ऑक्सीजन नहीं मिलती है तो उनकी ओर से ऑक्‍सीजन की कमी पूरी करने के लिए जम्‍हाई का संकेत मिलता है। इसके बाद तुरंत जम्‍हाई लेकर ऑक्‍सीजन की कमी को पूरा किया जाता है। सबसे खास बात तो यह है कि सामान्‍य रूप से जम्हाई छह सेकंड की होती है। आपको जानकर हैरानी होगी कि मां के पेट में पल रहा बच्‍चा भी जम्‍हाई लेता है। इसके अलावा दरियाई घोड़ा, भालू और बंदर जैसे जानवर भी अक्‍सर जम्‍हाई लेते देखे जाते हैं।

यहां भी क्‍लिक करें: रात में नींद नहीं आती है पीजिए ये 7 ड्रिंक्‍स

Health News inextlive from Health Desk

inextlive from News Desk