आई 10 का उत्‍पादन हुआ बंद
हुंदै ने पूरी दुनिया में अबतक इस मॉडल के 16.95 लाख वाहन बेचे हैं। भारत में हुंदै को मजबूती प्रदान करने में आई 10 की अहम भूमिका रही। कंपनी के एक अधिकारी ने कहा, ‘हमने इस मॉडल का प्रोडक्शन रोक दिया है'। हालांकि आई 10 की जबह ग्रैंड आई 10 की बिक्री अगले कुछ सालों तक चलेगी। ताकि जितनी डिमांड है उसको पूरा किया जा सके। कंपनी की 2017-20 में कुल आठ उत्पाद पेश करने की योजना है। इसमें तीन बिल्कुल नए होंगे जबकि बाकि मौजूदा वाहनों के नए वर्जन होंगे। खबरों की मानें तो कंपनी इलेक्ट्रिक से चलने वाली कार भी पेश करने पर विचार कर रही है।

अगर ह्यूंडई i10 खरीदने जा रहे हैं तो यह खबर पढ़ लें
आई 10 कार मालिक अब क्‍या करें -

1. अगर आपके पास आई 10 कार है तो यह खबर पढ़कर घबराने की जरूरत नहीं है। आपके दिमाग में अपनी आई 10 कार को बेचने का ख्‍याल आता है तो जरा ठहरिए।

2. आई 10 कार की मेंटीनेंस और स्‍पेयरिंग को लेकर चिंता की कोई बात नहीं है। ह्यूंडई कंपनी अगले पांच सालों तक इस मॉडल के पार्ट्स उपलब्‍ध करवाएगी। आई 10 छोटी कारों में सबसे ज्‍यादा बिकने वाली कार है। ऐसे में इस मॉडल के पार्ट्स जल्‍दी खत्‍म होंगें, इसमें कोई दोराय नहीं है।

3. अगर आप पहले से इस कार को बेचने के बारे में सोच रहे थे। तो अब आपको इसके कम दाम ही मिलेंगे।

अगर ह्यूंडई i10 खरीदने जा रहे हैं तो यह खबर पढ़ लें
आप सेकेंड हैंड आई 10 खरीदने जा रहे हैं तो क्‍या करें -

1. ह्यूंडई की आई 10 कार घर-घर में फेमस है। ऐसे में यदि आप सेकेंड हैंड आई 10 खरीदते हैं तो परेशान होने की जरूरत नहीं है। अगर ऑर्थेराइज्‍ड सर्विस सेंटर में इस गाड़ी की मेंटिनेंस नहीं होती है तो लोकल किसी भी दुकान पर आप सर्विस करा सकते हैं।

2. किसी भी कार को खरीदते समय उसकी माइलेज जरूर देखी जाती है। आमतौर पर 60 हजार किमी चलने के बाद क्‍लच प्‍लेट बदलवाना जरूरी हो जाता है। इसके अलावा अन्‍य कई पार्ट्स भी बदलवाए जाते हैं। ऐसे में अगर आप उस कार को खरीदना चाह रहे हैं जो बंद होने जा रही है। तो उसके फायदे-नुकसान पर विचार कर लें। यानी कि आप भविष्‍य में कार पर कितने पैसे खर्च करेंगे, यह अभी तय कर लें।

3. यदि हम गाड़ी की उत्‍पादकता और लागत का अनुमान लगाते हैं तो किसी भी गाड़ी का रजिस्‍ट्रेशन 15 साल बाद एक्‍सपायर होता है। नेशनल ग्रीन ट्रिब्‍यूनल के कड़े नियमों के मुताबिक इसे रिन्‍यू भी नहीं कराया जा सकता। ऐसे में यदि आप एक ऐसी गाड़ी खरीदते हैं जिसका उत्‍पादन 2015 में बंद हो चुका हो, तो उस गाड़ी की रजिस्‍ट्रेशन वैधता सिर्फ पांच साल तक रहती है।

Business News inextlive from Business News Desk

Business News inextlive from Business News Desk