- जिला अस्पताल में दलालों का बोलबाला

- ओपीडी में दलाल को इंकार करना डॉक्टर को पड़ा भारी

- डॉक्टर को रास्ते में रोककर दलाल ने पीटा और दी जान से मारने की धमकी

- डॉक्टर की तहरीर पर कोतवाली में मुकदमा दर्ज

GORAKHPUR: जिला अस्पताल में दलालों का बोलबाला इस कदर हावी है इसका नजारा शनिवार को देखने को मिला. दलालों ने जरा सी कहासुनी पर मेडिसीन के डॉ. प्रशांत कुमार सिंह को ही रास्ते में रोककर पीट दिया. मारपीट होता देख आसपास के लोगों जब तक पहुंचते इससे पहले मौका पाकर आरोपी फरार हो गया. डॉक्टर का आरोप है कि कमीशन की दवा ना लिखने पर दलाल ने पहले ओपीडी में घुसकर बदसलूकी की और फिर फोन पर मारने की धमकी भी दी. सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने आरोपी की तलाश में लगी है. उधर पीडि़त डॉक्टर की तहरीर के आधार पर कोतवाली पुलिस आरोपी के खिलाफ केस दर्ज कर उसकी तलाश में लगी है.

जिला अस्पताल में दलाल आए दिन ओपीडी में दाखिल होकर डॉक्टर पर बाहर की दवा लिखने का दबाव बनाते हैं. इंकार करने पर उन्हें मारने पीटने की धमकी देते हैं. शनिवार को करीब 10.30 बजे डॉ. प्रशांत कुमार सिंह ओपीडी के 28 नंबर कमरे में मरीजों को देख रहे थे. इसी बीच एक मनबढ़ ओपीडी के अंदर दाखिल हो गया और बाहर की दवा लिखने के लिए डॉक्टर पर दबाव बनाने लगा. ड्यूटी पर तैनात डॉक्टर ने जब दवा लिखने से इंकार किया तो उनके साथ बदसलूकी करने लगा. इसी दौरान ओपीडी में हेल्थ कर्मचारियों के हस्तक्षेप के बाद प्रमोद कुमार को बाहर कर दिया. इसके बाद उसने फोन पर अंजाम भुगतने की धमकी भी दी. डॉ. प्रशांत कुमार सिंह ने बताया कि करीब 2 बजे ओपीडी खत्म कर कार द्वारा कैंट थाना क्षेत्र के दाउदपुर आवास जा रहे थे. कार का शीशा खुला हुआ था. जैसे ही इमरजेंसी के दो नंबर गेट पर पहुंचे. इस दौरान मनबढ़ ने रास्ता रोक लिया और कार से बाहर खींचकर उनकी पिटाई कर दी. शोर सुनकर इमरजेंसी से कर्मचारी दौड़े और आसपास के लोगों की भीड़ जुट गई. लोगों को एकत्र होता देख आरोपी फरार हो गया. डॉक्टर ने घटना की सूचना तत्काल डॉयल 100 पर दी.

वर्जन

मामल मेरे संज्ञान में नहीं है. अगर ऐसा है तो गलत है. डॉक्टर्स से सूचना मांगी गई हैं. अस्पताल परिसर में अगर संदिग्ध व्यक्ति पकड़े गए तो उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.

डॉ. आरके गुप्ता, एसआईसी जिला अस्पताल

डॉक्टर की तहरीर के आधार पर प्रमोद कुमार के खिलाफ मारपीट का केस दर्ज किया गया है. पुलिस उसकी तलाश में जुटी है.

जयदीप वर्मा, इंस्पेक्टर कोतवाली