112 डॉक्टर्स की कमी है मेडिकल कॉलेज और जिला अस्पताल में

54 पदों में से 27 डॉक्टर्स ही उपलब्ध हैं जिला अस्पताल में

27 डॉक्टर्स की कमी बनी हुई है जिला अस्पताल में

172 पदों में से 43 पद खाली पड़े हैं मेडिकल कॉलेज में

10 डॉक्टर्स ही उपलब्ध हैं महिला जिला अस्पताल में

जिला अस्पताल व मेडिकल कॉलेज में कई गंभीर बीमारियों के डॉक्टर्स की कमी

शासन ने मांगी डॉक्टर्स की कमी का ब्योरा

Meerut. मोदी सरकार ने हाल ही में सरकारी स्वास्थ्य सेवाओं के तहत डॉक्टर्स की कमी को पूरा करने की बात कही थी. बावजूद इसके शहर के सरकारी अस्पतालों में डॉक्टर्स की भारी कमी है. अस्पतालों में गंभीर बीमारियों के डॉक्टर्स ही नहीं है. जिससे मरीजों को प्राइवेट अस्पताल में महंगा इलाज करवाना पड़ रहा है. हालांकि शासन ने अस्पतालों से डॉक्टर्स की कमी के बारे में जानकारी मांगी है.

27 डॉक्टर्स की कमी

जिला अस्पताल और मेडिकल कॉलेज में मरीजों के लिए नि:शुल्क इलाज की सुविधा है, लेकिन दोनों अस्पतालों में करीब 112 डॉक्टर्स के पद खाली हैं. इसमें जिला अस्पताल में स्वीकृत 54 पदों में से 27 डॉक्टर्स ही उपलब्ध हैं जबकि 27 डॉक्टर्स की कमी है. इनमें तीन सर्जरी, दो बेहोशी, दो रेडियोलोजिस्ट, दो ऑर्थो, दो टीबी व चेस्ट स्पेशलिस्ट, दो ईएनटी, एक डेंटल, यूरोलोजिस्ट, न्यूरो सर्जन, न्यूरो फिजिशियन, कार्डियोलॉजिस्ट, नेफ्रोलॉजिस्ट, ब्लड बैंक व आईसीयू के लिए 9 डॉक्टर्स की कमी है.

43 पद पड़े खाली

मेडिकल कॉलेज में प्रोफेसर, एसोसिएट प्रोफेसर, असिस्टेंट प्रोफेसर, लेक्चरार के मिलाकर कुल 172 पद है. इनमें से 43 पद खाली पड़े हुए हैं. फार्मेसी में भी एक असिस्टेंट प्रोफेसर, मेडिसन में प्रोफेसर, एसोसिएट प्रोफेसर व असिस्टेंट प्रोफेसर का एक-एक पद खाली है. रेडियोथेरेपी में एक-एक एसोसिएट प्रोफेसर व असिस्टेंट प्रोफेसर, रेडियोडायोग्नोसिस में एक एसोसिएट प्रोफेसर व असिस्टेंट प्रोफेसर के दो-दो पद व एनेसथिसिया के प्रोफेसर, एसोसिएट प्रोफेसर व असिस्टेंट प्रोफेसर का एक-एक पद खाली है. इसके अलावा ह्यूमन मेटाबॉलिज्म में एसोसिएट प्रोफेसर व असिस्टेंट प्रोफेसर का एक-एक पद खाली है. ईएनटी में प्रोफेसर, एसोसिएट प्रोफेसर का एक-एक व गायनी में एसोसिएट प्रोफेसर का एक पद खाली है. इसके अलावा फार्माकोलॉजी में एक असिस्टेंट प्रोफेसर का पद खाली है.

महिला अस्पताल का हाल

महिला जिला अस्पताल में महिला रोग चिकित्सक के 24 पद है लेकिन 10 डॉक्टर्स ही यहां उपलब्ध है. गौर करने लायक है कि इनमें से सिर्फ 4 डॉक्टर्स ही विशेषज्ञ हैं.

28 डॉक्टर्स की कमी

स्वास्थ्य विभाग के तहत सीएचसी, पीएचसी व अर्बन हेल्थ सेंटर पर 182 डॉक्टर्स के पदों पर 28 डॉक्टर्स कम है. जिसमें 12 स्वीकृत सर्जन में से सिर्फ एक ही सर्जन उपलब्ध है. जबकि गायनी के 15 पदों में से सिर्फ 4 ही पद भरे हुए हैं. फिजीशियन और रेडियोलॉजिस्ट एक भी नहीं हैं.

डॉक्टर्स की कमी को देखते हुए शासन ने खाली पदों का ब्योरा मांगा है. सूचना हमने भेज दी है. जल्द ही डॉक्टर्स की कमी पूरी हो सकती है.

डॉ. अजीत चौधरी, एसआईसी, मेडिकल कॉलेज

हमने शासन से कई बार पत्र लिखकर डॉक्टर्स की कमी को पूरा करने के लिए कहा है. डॉक्टर्स न होने की वजह से मरीजों को इलाज नहीं मिल पाता है.

डॉ. पीके बंसल, एसआईसी, जिला अस्पताल