मरीज हुए हलकान, विरोध में धरने पर बैठे डॉक्टर्स

Meerut. मेडिकल कॉलेज में गत सप्ताह पूर्व सीएमएस और कर्मचारी एसोसिशन अध्यक्ष के बीच हुए प्रकरण का मामला लगातार तूल पकड़ता जा रहा है. एक सप्ताह बाद भी आरोपी एसोसिएशन अध्यक्ष विपिन त्यागी की गिरफ्तारी न होने के विरोध में गुस्साए मेडिकल कॉलेज में जूनियर डाक्टरों ने कार्रवाई की मांग करते हुए ओपीडी समेत मेडिकल कालेज के पर्चा काउंटर से लेकर दवा काउंटर को बंद करा दिया. ओपीडी बंद होने के चलते दूर दराज से आए सैकड़ो मरीजों को बिना इलाज के ही वापस लौटना पड़ा.

यह था मामला

पिछले सप्ताह पूर्व मेडिकल कालेज में कर्मचारी एसोसिएशन के अध्यक्ष विपिन त्यागी और पूर्व सीएमएस अजीत चौधरी आपस में भिड़ गए थे. इस दौरान दोनो ही तरफ से थाना मेडिकल थाने में मुकदमा दर्ज किया गया था. आईएमए ने अपना समर्थन सीएमएस डा. अजीत चौधरी को देते हुए विपिन त्यागी की गिरफ्तारी की मांग की थी. एक सप्ताह बीतने के बाद भी विपिन त्यागी की गिरफ्तारी नही हो सकी और ना ही पुलिस ने कोई एक्शन लिया है. इस बात से गुस्साए डॉक्टर्स ने सोमवार को मेडिकल कॉलेज में प्रदर्शन किया. जूनियर डाक्टरों का कहना था कि जब तक आरोपियों की गिरफ्तारी नही होगी तब तक ओपीडी को नहीं चलने दिया जाएगा.

शाम को हुई बैठक

इस मामले में मेडिकल कॉलेज के जूनियर डाक्टरों ने शाम को बैठक का आयोजन कर चिकित्सकों की सुरक्षा के संबंध में प्राचार्य को ज्ञापन सौंपा. बैठक में डॉक्टर्स ने कहा कि अगर इसी प्रकार डाक्टरों पर हमला किया जाएगा तो हमारी सुरक्षा किसके भरोसे रहेगी.

घंटों कतारों में लगे रहे बेबस मरीज

सोमवार को अस्पताल खुलते ही पर्चा काउंटर, ओपीडी और दवा की डिस्पेंसरी पर मरीजों की लंबी कतारें लग गई. नौ बजे करीब जूनियर डॉक्टर भड़क गए मरीजों को बाहर कर पर्चा काउंटर, ओपीडी, डिस्पेंसरी आदि काउंटर बंद करा दिए. दूर दराज से आए मरीज घंटों तक काउंटर खुलने का इंतजार करते रहे लेकिन दोपहर बाद मरीजों को बिना इलाज वापस जाना पड़ा.

इस मामले में एसपी सिटी रणविजय सिंह से बात हो गई है. जल्द ही सभी आरोपियों की गिरफ्तार कर लिया जाएगा.

एससी गुप्ता, प्राचार्य

कर्मचारियों ने भी किया प्रदर्शन

मेडिकल कर्मचारी एसोसिएशन की तरफ से उप्र कर्मचारी संघ एसोसिएशन ने एसएसपी आफिस पर जोरदार प्रदर्शन किया. उन्होंने मांग की है कि कर्मचारी एसोसिएशन के अध्यक्ष विपिन त्यागी के साथ मारपीट करने वाले डाक्टर की जल्द ही गिरफ्तारी की जाए. उप्र कर्मचारी संघ एसोसिएशन के महामंत्री रविपाल के नेतृत्व में काफी कर्मचारी नारेबाजी करते हुए एसएसपी आफिस पर पहुंचे. उन्होंने आरोप लगाया कि मेडिकल पुलिस ने कर्मचारी एसोसिएशन के खिलाफ कई गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज किया है, जबकि डाक्टर ने भी उसके साथ मारपीट की थी. एसएसपी राजेश कुमार पांडे ने आश्वासन देकर मामला शांत कराया.