कैंब्रिज एनालिटिका को किया निलंबत
दरअसल, फेसबुक ने अमेरिका के डेटा एनालिटिक्स फर्म 'कैंब्रिज एनालिटिका' और एक यूके बेस्ड प्रोफेसर अलेक्जेंडर कोगन को निलंबित कर दिया है। दिग्गज सोशल नेटवर्किंग साइट का आरोप है कि फार्म ने 2016 के चुनाव प्रचार के दौरान गलत तरीके से पांच करो़ड़ फेसबुक यूजरों की निजी जानकारी चुराई थी।

जांच की जा रही है
फेसबुक के उप कानूनी सलाहकार पॉल ग्रेवाल ने एक बयान में कहा है कि 'इस मामले की जांच चल रही है और जांच पूरी होने तक निलंबन जारी रहेगा। हमें जानकारी मिली थी कि कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय के प्रोफेसर कोगन ने साल 2013 में 'दिस इज योर डिजिटल लाइफ' नाम का एक एप बनाया था और इस ऐप को करीब 2,70,000 लोगों ने डाउनलोड किया था। इस ऐप के जरिए लोगों की जानकारियां चुराई गई। साथ ही इन प्रोफाइल्स से जुड़े हुए फेसबुक फ्रेन्ड्स की भी निजी जानकारियां चोरी की गई।'

सूचना सामने आने पर डाटा डिलीट करने का निर्देश
उन्होंने कहा कि 'फेसबुक ने यह सूचना सामने आने पर डाटा को तत्काल प्रभाव पर डिलीट करने को कहा था, लेकिन डिलीट करने का आश्वासन देकर उसका गलत इस्तेमाल किया गया, जो कि कंपनी के नियमों के खिआफ है'। बता दें कि इस ऐप को इस तरह तैयार किया गया था कि इस्तेमाल करने वाले यूजरों को इसके बारे में पता नहीं चल सका। खैर, इस मामले को लेकर अटार्नी जनरल ने कहा कि उनके कार्यालय ने जांच शुरू कर दी है।

International News inextlive from World News Desk