वाशिंगटन (एएफपी)। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के पूर्व प्रचार प्रमुख पॉल मैनफोर्ट ने राष्ट्रपति चुनाव में रूसी हस्तक्षेप को लेकर चल रही जांच में सहयोग का समझौता किया है। उन्होंने मनी लांड्रिंग और अवैध तरीके से लॉबिंग के मामलों में दूसरे ट्रायल से बचने के लिए दो अपराध स्वीकार करते हुए यह समझौता किया है। अभियोजन पक्ष ने शुक्रवार को वाशिंगटन की संघीय अदालत को यह जानकारी दी। 69 वर्षीय मैनफोर्ट अगस्त में वित्तीय धोखाधड़ी के आठ आरोपों में दोषी ठहराया गया था।

बैंक खाते और जीवन बीमा पॉलिसी होगी जब्त
इसके अलावा उन्होंने अमेरिका के विरुद्ध षड्यंत्र रचने और न्याय के रास्ते में बाधा डालने का षड्यंत्र रचने का आरोप स्वीकार किया है। समझौते के तहत मैनफोर्ट राष्ट्रपति चुनाव में रूस के हस्तक्षेप की जांच कर रहे विशेष वकील रॉबर्ट मुलर का सहयोग करेंगे। बदले में उनकी सजा कम हो सकती है। उन्हें 10 साल की जेल हो सकती है और साथ ही उनकी करोड़ों डॉलर की चार रियल एस्टेट संपत्तियां भी जब्त होंगी। उनके बैंक खाते और जीवन बीमा पॉलिसी भी जब्त होगी।

छह महीने अभियान से जुड़े रहे थे
माना जा रहा है कि इस घटनाक्रम से ट्रंप और रिपब्लिकन पार्टी को छह नवंबर को होने जा रहे कांग्रेस चुनाव से पहले तीखे ट्रायल से बचने का मौका मिलेगा। हालांकि ह्वाइट हाउस की प्रवक्ता ने कहा है कि इस समझौते से ट्रंप का कोई लेनादेना नहीं है। प्रवक्ता ने कहा कि मैनफोर्ट पर जो आरोप सिद्ध हुए हैं या उन्होंने जो आरोप स्वीकार किए हैं, उनमें से किसी का भी ट्रंप के चुनाव अभियान से संबंध नहीं है। ये सारे मामले 2005 से 2014 के बीच यूक्रेन के पूर्व राष्ट्रपति विक्टर यानुकोविच और उनकी रूस समर्थक पार्टी के साथ मैनफोर्ट के काम से जुड़े हैं। मैनफोर्ट 2016 के मध्य में उस समय ट्रंप के चुनाव अभियान से जुड़े थे, जब ट्रंप को रिपब्लिकन की ओर से राष्ट्रपति पद के लिए नामित किया गया। वह करीब छह महीने अभियान से जुड़े रहे थे।

Video : स्‍टेप बाई स्‍टेप देखिए कैसे लांच हुआ दुनिया का सबसे ताकतवर रॉकेट

इस खूबसूरत रोबोट को मिल गई है सऊदी अरब की नागरिकता, खुद सुनिए कि वह इंसानों के साथ क्या कर सकती है!

International News inextlive from World News Desk