वाशिंगटन (पीटीआई)। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा है कि उनके प्रशासन ने चीन के अवैध व्यापर को खत्म करने के लिए अब तक की सबसे कड़ी कार्रवाई की है। ट्रंप ने शुक्रवार को ओहियो में एक चुनावी रैली में अपने समर्थकों को संबोधित करते हुए कहा, 'हमने चीन के अवैध व्यापार कार्यों और व्यापार समझौता के दुरुपयोग को खत्म करने के लिए सबसे कड़ी कार्रवाई की है।' गौरतलब है कि अमेरिका द्वारा चीन के खिलाफ उठाए जा रहे कदमों में 250 अरब अमेरिकी डालर के चीनी उत्पादों के आयात पर अतिरिक्त 25 प्रतिशत टैरिफ लगाने, चीन के साथ परमाणु प्रौद्योगिकी व्यापार के नए प्रतिबंधों की घोषणा करने और चीन द्वारा यूएस में गैर कानूनी तरीके से संपत्ति के हथियाने के आरोप पर कार्रवाई करना शामिल हैं।

ईरान पर भी जिक्र

ट्रंप ने कहा कि इस कार्रवाई के बाद अमेरिका की अर्थव्यवस्था अधिक मजबूत होगी और लोगों को यहां ज्यादा नौकरियां भी मिलेंगी। इसके बाद उन्होंने ईरानी परमाणु समझौते से उनकी वापसी का जिक्र करते हुए कहा कि यह समझौता एक तरफा था। उन्होंने कहा, 'मैंने अमेरिका को भयानक एक तरफा ईरान परमाणु समझौते से वापस कर लिया और देखो कि ईरान के साथ क्या हुआ। जब मैंने पदभार संभाला, तो ईरान सभी जगहों पर था। वो सीरिया, यमन समेत सभी जगहों पर अपना दबदबा बना चुका था। मुझे लगा इससे आगे चलकर बड़ी समस्या होगी और हमें कुछ करना चाहिए ।' ट्रंप ने कहा, 'ये सब सोचने के बाद मैंने उस समझौते से अपना पैर पीछे खींच लिया और आप देखें कि ईरान में इन दिनों क्या हो रहा है। पूरे शहर और गलियों में दंगों का माहौल है।'

चीन की मदद से श्रीलंका बना रहा नया महानगर जो हांगकांग, दुबई को देगा टक्‍कर

श्रीलंका के खिलाफ सीरीज जीतने के बाद आईसीसी टी-20 रैंकिंग में टीम इंडिया दूसरे स्थान पर

International News inextlive from World News Desk