वाशिंगटन (पीटीआई)। ईरान के प्रति एक बार फिर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का सख्त रवैया देखने को मिला है। उन्होंने जोर देकर कहा कि वह ईरान को परमाणु हथियार हासिल नहीं करने देंगे। दरअसल, गुरुवार को व्हाइट हाउस में आयोजित यहूदियों का त्योहार हनुक्का के मौके पर स्पीच के दौरान ट्रंप ने कहा, 'दुनिया में आतंकवाद का समर्थन करने वाले और अमेरिका व इजराइल को लगातार खत्म करने की धमकी देने वाले ईरान को हम पृथ्वी का सबसे खतरनाक हथियार हासिल नहीं करने देंगे।' उन्होंने कहा कि उनकी सरकार ने ईरान पर अब तक के सबसे कड़े प्रतिबंध लगाए हैं। इसके अलावा भारत और चीन से भी कहा है कि वे ईरान से तेल आयात में कटौती करें। तभी से दोनों देशों ने तेल आयात में भारी कटौती भी की है।

इजराइल का साथ देगी ट्रंप सरकार

कार्यक्रम में यहूदियों को संबोधित करते हुए ट्रंप ने कहा कि अमेरिका ईरान के साथ हुए परमाणु समझौते से अलग हो गया है, ये बहुत ही खतरनाक समझौता था।  इसके अलावा उन्होंने इजराइल को लेकर कहा कि हमने एक साल पहले ही यरुशलम को इजराइल की असली राजधानी के रूप में मान्यता दे दी है। पुरानी बातें याद करें तो यहूदी समुदाय ने बहुत अत्याचार और हिंसा का सामना किया है। बहुत मुश्किलों के बावजूद आपने एक अच्छा मुकाम हासिल किया है। आप लोगों ने अपनी मेहनत के बल पर एक ताकतवर और गजब का देश इजराइल बनाया है। मेरी सरकार हमेशा इजराइल का साथ देगी।

इवांका ट्रंप के पर्सनल आर्इडी इस्तेमाल मामले पर बबाल के बाद अमेरिकी राष्ट्रपति ने किया बेटी का बचाव

पाकिस्तान ने लादेन को दी पनाह, अमेरिका के लिए भी कुछ नहीं करता, इसलिए रोकी मदद : ट्रंप

International News inextlive from World News Desk