सांसों से दुर्गंध आती:
रेगुलर ब्रश का इस्‍तेमाल न करने से जुबान और दांत गंदी रहते हैं। जिससे सांसो से बदबू आने लगती है। दांतों पर हर दिन एक लेयर सी बनती जाती है। सबसे खास बात तो यह है इससे आपके दांत भी गिरने लगते हैं। आप जिसके मुंह के सामने बोलेंगे वह भी बैक्‍टीरिया की वजह से आने वाली बदबू से मुंह घुमा लेगा।

कोरोनरी हार्ट डिसीज:

ब्रश न करने से यह बीमारी होती है। इसके पीछे होने की वजहें विषाक्‍त पदार्थ और बैक्‍टीरिया हैं। धीरे-धीरे यह दोनों चीजें आपके रक्‍त धमनियों में समाहित हो जाती हैं। जिससे हार्ट में ब्‍लाकेज और हार्ट अटैक जैसी बीमारियां हो जाती हैं।

मसूढों से खून आना:

ब्रश न करने से मुंह में दुर्गंध आना स्‍वाभाविक है। इसकी वजह से मसूढों से खून भी आने लगता है। इसके अलावा मसूढों में दाने पड़ने के साथ ही उनमें सूजन जैसी समस्‍याएं होने लगती हैं। इससे आप किसी के सामने मुंह खोलने में संकोच करेंगे।

दांत हिलने लगना:

अक्‍सर मुंह में साफ सफाई न होने से दांत कमजोर हो जाते हैं। जिसकी वजह से वह हिलने लगते हैं। दातों के बीच में एक अच्‍छा खासा गैप हो जाता है। इन सब परेशानियों की वजह से कोई भी कड़ी या कुरकुरी चीज खाते नहीं बनती हैं।

किस नहीं कर पाते:

ब्रश न करने से कमजोर हुए दांतों और बदबू आने की वजह से आप किसी को किस नहीं कर पाते हैं। आपका पार्टनर भी आपसे काफी क्‍लोज होने के बाद भी इसकी वजह से किस करने में हिचकिचाएगा। जिससे हो सकता आपको मेंटल लेवल पर इरीटेशन फील हो।

दांतों में धुंधलापन:
ब्रश न करने की वजह से दांत रहते हैं। आप जो भी खाते पीते हैं वह आपको दांतों में अपना असर छोड़ा जाता है। रेड वाइन, नॉनवेज, कॉफी और करी जैसी चीजें तो हमेशा दांतों पर अपना रंग छोड़ जाती हैं।

Health News inextlive from Health Desk

inextlive from News Desk