ALLAHABAD: बेर तोड़ने को लेकर यमुनापार में हुए दो सगे भाईयों दशरथ सोनकर व राकेश सोनकर के मर्डर से उत्पन्न दहशत गांव में दूसरे दिन भी दिखाई दी. बुधवार को पोस्टमार्टम के बाद दोनों के शव को कड़ी सुरक्षा के बीच गांव लाया गया. दोनों के शव को देखते ही परिजन व तमाम ग्रामीण आक्रोशित हो गए. हालांकि डबल मर्डर के बाद से ही गांव में तैनात फोर्स की वजह से माहौल शांतिपूर्ण रहा. उधर मांडा पुलिस ने घटना के आरोपी रामनाथ व उसकी बेटी सीता को गांव के पास से गिरफ्तार कर लिया है. जबकि छह अन्य आरोपी अब भी फरार हैं. बतादें कि आरोपी जिया लाल को पकड़ कर पुलिस मंगलवार को ही जेल भेज दी थी.

गांव में रहा सन्नाटा, फोर्स तैनात

माण्डा थाना क्षेत्र के बघौरा गांव निवासी राकेश सोनकर व दशरथ सगे भाई थे. मंगलवार की देर शाम बेर तोड़ने को लेकर हुए विवाद में दोनों भाइयों की हत्या कर दी गई थी. साथ दो भाइयों की हत्या से गांव में दहशत फैल गई. बुधवार को दोनों के शव का पुलिस ने पोस्टमार्टम कराया. इस दौरान बवाल की आशंका से पोस्टमार्टम हाउस में पहले से ही पुलिस तैनात रही. पोस्टमार्टम के बाद कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच दोनों के शव को गांव ले जाया गया. शव गांव पहुंचते ही आक्रोशित परिजनों में कोहराम मच गया. उधर तमाम ग्रामीणों की भी आंखें नम हो गई. गांव में दूसरे दिन भी गम और दहशत का माहौल रहा. शांति व्यवस्था के मद्देनजर भारी संख्या में फोर्स तैनात रही.

मातम में बदल गई खुशियां

बताते हैं कि राकेश सोनकर के परिवार में 22 साल बाद पैदा हुए बेटे की काफी खुशी का माहौल था. सभी इसी खुशी में एक कार्यक्रम आयोजित करने की तैयारी में लगे हुए थे. मगर, उनकी इस खुशी में किसी की नजर लग गई. मंगलवार को राकेश और दशरथ की हुई हत्या परिवार की खुशियां मातम में बदल गई. खबर मिलते ही घर पहुंचे मिर्जापुर में रहने वाले भाई कामता भाईयों के शव को देखते ही बेसुध हो गया.

हत्या में शामिल पिता और बेटी को गिरफ्तार कर लिया गया है. अन्य छह की तलाश में जुटी दबिश दे रही है. सूचना के लिए मुखबिरों को भी एक्टिव कर दिया गया है.जल्द ही उन आरोपियों को भी गिरफ्तार कर लिया जाएगा. सुरक्षा के मद्देनजर गांव में फोर्स तैनात है.

संदीप तिवारी, एसओ मांडा

Crime News inextlive from Crime News Desk